Home > mandir
Tenali Raman Bna Jatadhari Sanyasi Tenali Raman Short Stories In Hindi

तेनालीरामन बना जटाधारी सन्यासी

महाराज कृष्णदेव राय और तेनालीरामन की कहानियों में पिछली कहानी आपने पढ़ी तेनालीराम के बाग की सिंचाई और आज हम आपके लिए लाएँ हैं “ तेनालीरामन बना जटाधारी सन्यासी” इस

god with white hair

जब भक्त के प्राण बचाने के लिए प्रभु को करने पड़े अपने बाल सफ़ेद

मानो तो भगवान ना मानो तो पत्थर हूँ, हिंदी के इस मुहावरे का ठीक मतलब इस कहानी से सिद्ध हो जाता हैं जो की आप नीचे पढ़ने जा रहे हैं.... एक

ये शख्स 12 वर्षो से “पत्नी” की पूजा करता आ रहा है

भारत में कई देवी-देवताओं के अनगिनत मंदिर है जिनमें  विधि-विधान से देवताओं की पूजा अर्चना की जाती है। भारत में एक ऐसा भी  शख्स  है जो मंदिर में पूजा तो

ये है वह 5 जगह जो बहुत कम लोगो को ही पता होगी

भारत में ऐसी सुन्दर जगहों की भरमार है। जहां आप  बार-बार जाना पसंद करेंगे। घूमना किसे पसंद नही होता कुछ ही होते है ।जिन्हें घूमना पसंद ना हो , भारत

क्या अद्भुत है ! इन भव्य मन्दिरों की कला नक्काशी

भारत में ही नही  बल्कि बाहर देशो में भी ,आपने कई मंदिरों को देखा होगा। जहा जा कर अलग ही सुकून की प्राप्ति होती है । ईश्वर के पास जाना

विश्वभर के विशाल मन्दिरों में से एक है ! स्वामीनारायण मंदिर(अक्षरधाम मंदिर)

हिन्दू साहित्यों,संस्कृतियों और कलाकृतियों द्वारा सजा ये मंदिर अक्षरधाम अथवा स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के नाम से भी है चर्चित,यह मंदिर भारत के नयी दिल्ली में स्थापित है।  इस मंदिर में

पाप के बाद मिलने वाली पीड़ा को दर्शाने के लिए बनवाया गया है !ये मंदिर

थाईलैंड की राजधानी बैंकाक के चियांग माइ शहर में कहते है 300 से भी अधिक मंदिर हैं । लेकिन वहा एक और मंदिर है ,जो सबसे अलग है। यहाँ आपको

नेपाल का ठंडा ठंडा मौसम एक अलग ही एहसास की अनुभूति कराता है

नेपाल की राजधानी काठमांडू खूबसूरत और हरी भरी वादियों से घिरा हुआ है।नेपाल में आप पोखरा भी जा सकते है घुमने यह  दोनों शहर अपनी खूबसूरती  के लिए भी जाने

इस विशेष मंत्र के साथ करे देवो की परिक्रमा और पाए लाभ

संसार में कुछ लोग आस्तिक है तो कुछ नास्तिक ,पर धर्म कर्म का विशेष महत्व बताया गया है ज्योतिष शास्त्रों में पूजा पाठ के बाद परिक्रमा करना पूजन का खास

मैहर शारदा माँ का चमत्कारी मंदिर

मैहर शारदा माता का एक प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर की चढ़ाई के लिए 1063 सीढ़ियों का सफ़र तय करना पड़ता है। इस मंदिर में दर्शन के लिए हर वर्ष