Tuesday, 19 September, 2017
Home > shiv

माँ पार्वती : ननद से तंग आकर बोली,बड़ी भूल हुई कि मैंने ननद की चाह की

शास्त्रों के अनुसार माँ पार्वती ने शिव की पूजा कर उनको पति के रूप में पाने की तपस्या की तब भगवान शिव और पार्वती का विवाह सम्पन्न हुआ भोले भंडारी

भगवान शिव ने ब्राह्मण रूप धर की माता सीता और राम की अनगिनत परीक्षाएँ

ऐसी कई कहानियां है जिसमे आपने सुना होगा देवी देवताओ को भी परीक्षा देने होते थे सफलता पाने के लिए तो इंसान क्या चीज़ है ,देवी देवता ही परीक्षा देते

रंग बदलता है ये पर्वत

पहाड़ो की रानी ‘हिमाचल’ में भगवान शिव के अनेकों तीर्थ स्थल हैं।जो की बहुत प्रचलित और जाने माने है यहाँ और भी कई देवी देवताओ के तीर्थ स्थल है ।जहा

भगवान शिव ने काटा ब्रम्हा का सर इसलिए

यह हम सभी को ज्ञात ही है और इसका उल्लेख तो पुराणों में भी है की ब्रम्हा  विष्णु और महेश यह संसार के सबसे शक्तिशाली भगवान हैं।यह सम्पूर्ण संसार के

इसीलिए देवो पर नही चड़ते केतकी के फूल !

यह तो आप सभी जानते है की ब्रम्हा जी  इस श्रृष्टि के रचना कार माने जाते है पर ये बात भी सत्य है की उनकी पूजा मन्दिरों में नही की

स्वयं महादेव भी नही बच पाए थे शनि की वक्र दृष्टि से

भगवान शिव इस सुंदर श्रृष्टि के निर्माण नायक है उन्होंने इंसान जानवर सबको बनाया और देवो को शक्ति दी उन्ही में से एक देव है।शनि देव जिनको कर्म फलदाता की

महादेव के ये 19 अवतार के बारे में जानिए

महादेव जिनका न आदि है न अंत है तीनो लोक के निर्माण नायक है जिन्होंने कई अवतार लिए ,धर्म ग्रंथों  के अनुसार भगवान शिव ने 19  अवतार लिए थे। जिनके बारे में

महाशिवरात्रि के पर्व पर करे ऐसे शिव को प्रसन्न

भगवान शिव एक ऐसे देवता है जो अपने भक्तों की पूजा पाठ सेबहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते है इसलिए इन्हें भोलेनाथ कहा जाता है और यही कारण था की असुर

शिवरात्रि का व्रत शिव की कृपा प्राप्त करने का सबसे सुगम साधन है!

शिव को प्रसन्न कर कोई भी व्यक्ति कठिन समय तथा संकटों से उबरकर सभी प्रकार के पारिवारिक एवं सांसारिक सुख आदि प्राप्त कर सकता है। महा शिवरात्रि का व्रत फाल्गुन

यह शिवलिंग अपने आप बड़ता जा रहा है !

देवो के देव महादेव के आपने बहुत से मंदिरों के बारे में सुना और देखा तो जरुर होगा भोले बाबा के चमत्कारों को सम्पूर्ण श्रृष्टि मानती है भोले नाथ का