बरसात का पानी

बरसात का पानी (  )

”बरसात होने का दुःख वो क्या जाने जिसके  पक्के मकान हो ”

”उनके लिए तो बरसात मतलब चाय पकोड़े का आनन्द लेना है ”

Advertisement

”बरसात का दुःख तो वही जाने जिसका मकान टुटा झोपड़ा हो”

”सोने का बिस्तर गिला हो सर झुपाने की जगह न हो”

” भीगा थराता कापता बदन हो ”

” और बरसात के पानी में सब भीग चूका हो ”

Advertisement

”आँखों का पानी भी बरसात के पानी में छुप गया हो ”

No Data
Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>