किसी पराए को अपनो की तरह पाला तो काम आया

किसी पराए को अपनो  की तरह पाला तो काम आया ( up to a stranger )

मुझे घुमने का बड़ा शौक है नई-नई जगहों के बारे में जानना मुझे बहुत पसंद है  कई  साल पहले की बात है मुझे केरल घुमने का मन हुआ मै अगले ही दिन अपने किसी परिचित मित्र  के साथ केरल को देखने और वहा घुमने के लिए निकल पड़वहा हमने ठहरने के लिए होटल में  एक रूम बुक किया था हम होटल पहुचे और नहा कर खाना खाया थोडा आराम किया  और रात हो गई ।

अगले दिन मेरा मन  केरल को देखने का हुआ मै अपने मित्र को कहने लगी की चलो अब घूम कर आते है हम दोनों तैयार होके निकल पड़े रास्ते में नारियल के पेड़ बड़े सुंदर प्रतीत हो रहे थे,हम पैदल ही ।

Advertisement

coconut-tree-5694b9f30e089_l

निकले थे घुमने सामने एक स्कूल था बच्चे भाग भाग के  खेल रहे थे सबकुछ बहुत अच्छा लग रहा था ।

untitled-1_1455242729

कुछ दूर जाते ही सामने एक गांव दिखा वहा कुछ लोग पत्थरो को फोड़ रहे थे कुछ कम्पनी खुलने वाली थी वहा  हम उनके करीब गए तो देखा सामने एक 11,12 साल का बच्चा भी पत्थर उठाने का  काम कर रहा था  उसे देख मेरा दिल पसिच गया कड़कती चिलचिलाती धुप में छोटा सा बच्चा  नंगे पैर हाफ निक्कर पहने बदन नंगा धुल  मट्टी से सना हुआ था|

Advertisement

child-labour_759

मैंने उससे पूछा बच्चे  आपके पैर और बदन नहीं जल रहा धुप में ?

“उसने कहा पेट की जलन के आगे यह जलन कुछ भी नही मेडम जी”

यह सुनते ही मेरा ह्रदय धक्क से रह गया की एक छोटा बच्चा जिसे और बच्चो के साथ खेलना चाहिए  वह यहाँ धुप में काम कर रहा है और इतने कटु शब्द बोल रहा है  ईश्वर  की लीला क्या क्या है अमीरों के कुत्ते तक मखमली बिस्तर में बैठ कर बोटी चबाते है और यह गरीब का मासूम बच्चा कडकती धुप में पत्थर उठा रहा है ।

मेरे मित्र ने  उससे पूछा की बच्चे तुम्हारे माता –पिता कहा है?तो उसका जबाब था मेरे माता –पिता  नही है उन्होंने मुझे झाड़ियो में फैक दिया था मेरे पैदा होते ही जिन्होंने मुझे पाला वो मेरे माता –पिता  वहा साइड में काम कर रहे है पत्थर फोड़ने का, ।

default-aspx

Advertisement

यह सुनते ही मेंरे  और मेरे मित्र के आँखों में आंसू आ गए हम दोनों फिर उन माता –पिता के पास गए  वो भी बहुत कमजोर से  और फटे कपडे पहने हुए थे हमने उनसे पूछा की आपने बहुत अच्छा किया किसी अनजान के बच्चे को पालपोस कर इतना बड़ा किया  आप लोग बहुत महान हो सुना ही  था  की गरीबो का दिल बड़ा होता है  आज देख भी लिया |पर  आप इसे पढ़ाते क्यों नही इतनी सी उम्र में काम कर रहा है नंगे बदन ।

उन्होंने कहा मेडम जी दो टाइम खाने की हेसियत नही उसे कैसे पढाए यह अकेला नही 5 और है हमारे बच्चे, फिर मैंने पूछा  यह आपकी औलाद नही इसलिए आप इसको मजदूरी करवाते हो?खुदके बच्चो को घर में आराम से बिठाते हो ।

उन्होंने जबाब दिया नही मेडम जी आप गलत सोच रही हो मेरे 5 बच्चे किसी काम के नही 3 लडकिया है जिनमे से 2 की शादी हो गई  वो भी हमारे ही तरह जैसे-तैसे जीवन जी रहे है दो लडके बुरी संगत में पड़  गए है गांजा  सिग्रेट के आदि हो गए है सुनते नही कुछ बोलो तो उल्टा हमे पीटने को आते है |एक लडकी है उसे लेके यहाँ क्या काम करवाए सबकी गंदी नज़र रहती है  बस अब यही कारण है जिसकी वजह से हम इसको यहाँ लाते है

Advertisement

अब मेरे पास कुछ शब्द नही बचे कहने को मुस्किलो वाले हालात थे उनके मैंने फिर भी कहा की यहाँ एक सरकारी स्कूल है अभी आते टाइम मैंने देखा वहा आप इसका दाखिला करवा दो पैसे नही लगते वहा सुबह जाएगा पढने और दिन मे आप लोगो का हाथ बटा दिया करेगा ,वह कहने लगे की हम कुछ जानते नही पढना लिखना नही आता कैसे कराएगे इसका दाखिला मेरे मित्र बोले कोई बात नही हम जा कर करवा देते है  ।

फिर हम गए और उसका दाखिला करवा के अपने होटेल को निकल गए हम जब तक वहा थे उस बच्चे को रोज मिलते पैसे वगेरा देते और आते वक्त उसको कपडे भी देके आए धीरे धीरे  वह  बच्चा बड़ा हुआ उसने 12 वी तक उस  सरकारी स्कूल  में पढाई की 12 वी  के बाद जहा वह पत्थर फोड़ा करता था वही उसे 15000 की जॉब मिल गई फिर उसने कॉलेज के प्राइवेट एग्जाम  भी दिए ।

आज वो लड़का 25 साल का हो गया और एक अच्छी कम्पनी में जॉब करता है अपने पाले हुए माँ बाप के साथ  कम्पनी के दिए हुए घर में रहता है ।

Advertisement

उनके खुदके बच्चे गांजे के शिकार बनके पहले ही घर छोडके चले गए थे और ला पता हो गए  लडकी ने शादी कर ली थी उसी झाड़ियो से उठाया हुआ बच्चा ही बूढ़े माँ बाप का सहारा बन गया ।

कहानी की सिख –

कभी भी अच्छाई का फल अच्छा ही होता है इसलिए बिना शंका करे जहा तक हो सबका भला ही करे ।

Advertisement
No Data

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>