Home > kavita
Dr. Hariom Panwar Kavita Kargil Amar Shaheedo Ki Gatha

कारगिल शहीदों की अमर गाथा… : डॉ. हरिओम पंवार

मै केशव का पाञ्चजन्य हूँ गहन मौन मे खोया हूं, उन बेटो की याद कहानी लिखते-लिखते रोया हूं जिन माथे की कंकुम बिंदी वापस लौट नहीं पाई चुटकी, झुमके पायल ले गई कुर्वानी

हिन्दुस्तान कहाँ है ?

साक्षरता का है आन्दोलन ,चिन्तन का विस्तार कहाँ है जन जन में जो फैल रही उस शिक्षा में संस्कार कहा है बड़ी-बड़ी खोजे सकल विश्व में  अपना हिंदुस्तान कहाँ है आओ खोजे सकल