गुणकारी पुष्प है गेंदा,इसके औषधिक गुण जानकर रह जायंगे आप हैरान

गुणकारी पुष्प  है गेंदा,इसके औषधिक गुण जानकर रह जायंगे आप हैरान ( benefits of marrygold )

गेंदा एक औषधिक गुणों से भरा हुआ फुल है। जिसको हम देवी देवता पर चढाते है पर क्या आप जानते है इसके औषधिक गुण भी है? आयुर्वेद में इसका एक बहुत बड़ा स्थान है यह काफी उपयोगी पुष्प है तो आइए जाने इसके गुण…

गेंदा और काम शक्ति 

मनुष्य का शरीर गर्म तथा ठंडे प्रवर्ती  का होता है। गेंदा एक औषधि के रूप  में सेवन किया जाता है परन्तु इसका  सेवन करना गर्म प्रकृति के लोगों के लिए हानिकारक हो सकता है। क्योकि यह कामशक्ति को घटाता है।

Advertisement

गेंदा और कान का दर्द 

यदि किसी के कान में समस्या हो तो गेंदे के पत्तो को पीसकर  रस निकाल ले फिर उस रस को  कान में डालने से कान का दर्द बंद हो जाता है।

8c5b6aae1279def64c3d97eb0a841822_large

गेंदा और मुंह 

यदि किसी को मुंह या दादों में समस्या है तो  इसके  फूलो के रस से कुल्ला करने पर दांत  का बड़े से बड़ा दर्द भी  ठीक होता है और मुंह की दुर्गन्ध भी दूर हो जाती है ।

गेंदा और बवासीर 

इसके के पत्तो  का रस कालीमिर्च और नमक के साथ मिलाकर पीना बवासीर के रोगी के लिए लाभकारी होता है।

Advertisement

गेंदा खासी में 

इसके  फूल के बिच  का जो  भाग होता है उसे सुखा कर पिस कर चूर्ण बना ले अब  उस चूर्ण को  दही के साथ सेवन करने से खांसी में लाभ होता है।

गेंदा बुखार में 

इसके फूलों का रस पिने से  बुखार से पीड़ित व्यक्ति को  लाभ मिलता हैतथा बुखार जल्दी उतर जाता है।

गेंदे की पत्तिया

इसके के पत्तों को मैदा या आटे  के साथ मिलाकर  किसी भी तरह के फोड़े जैसे पीठ के फोड़े गर्मी वाले फोड़े  सिर के फोड़े और गांठ पर लगाने से फोड़ा जल्द ही फुट जाता है और ठीक हो जाता है।

गेंदा और सर्दिया 

सर्दियों में हाथ पैर फटने पर गेंदे के पत्तों का रस  लगाने से हाथ कोमल और मुलायम हो जाते है।

गेंदे के फुल का काढ़ा :  

इसके  पत्तों  को पानी में उबाल कर काढ़ा बना ले अब इस काढ़े को दिन में दो बार सेवन करने से पथरी  में फायदा होता है और पथरी जल्द ही गलकर निकल जाती है।

गेंदा और मुहासे :  

यह एक  एंटी-सेप्टिक है जिसे  घाव, कीड़े के काटने,  और मुंहासों के उपचार में भी उपयोग  किया जाता है।

Advertisement

0014

गेंदा और गर्भपात :

इसका इस्तमाल  गर्भवती तथा स्तनपान करवाने वाली माता कतई ना करे क्योंकि इससे गर्भपात हो सकता है। यह बहुत गरम प्रवती का पौधा है ।इसे गर्भपात  की घरेलु औषधि कहा जा सकता है।

गेंदा और कब्ज 

इसका उपयोग कब्ज़, पेट दर्द और पाचन से संबंधित बीमारियों के इलाज में किया जाता है इसका रस पीना इन समस्या में लाभकारी है।

Advertisement

गेंदें का फुल और कांच 

इसके  सूखे फूल लें और  इसे कांच के बर्तन में रखें। इस जार में जैतून का थोडा सा तेल डाले और  ढक्कन लगा दें। इस जार को धुप में रख दे  अब  चार सप्ताह बाद तेल को छान ले फिर उसे वहा रखिए जहा खटमल हो एसा करने से खटमल दूर हो जाएगे।

 

Advertisement
No Data

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>