गन्ने के सेवन से होते है ये फायदे एवं नुकसान जानिए

गन्ने के सेवन से होते है ये फायदे एवं नुकसान जानिए (  )

गन्ने का रस बहुत ही गुणकारी है। इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैग्नेशियम और फॉस्फोरस जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं ।इसके सेवन से हड्डि‍यां मजबूत बनती हैं ।और दांतों की समस्या भी कम होती है ।तो चलिए गन्ने के और गुणों के बारे में जानिए।

गन्ने के रस से ये नुकसान हो सकते हैं –

  • रास्तों में खड़ी किसी भी दुकान या ठेलो में से गन्ने का जूस न पीयें, इससे संक्रमण होने का खतरा होता है। ऐसी दुकानों से गन्ने का रस पीने से पेट में दर्द आदि समस्या भी हो सकती है।
  • गन्ने का रस निकालने के लिए मशीनों का उपयोग होता है ।पर क्या आप जानते है। मशीनों में तेल का उपयोग होता है। ये तेल यदि पेट में चला जाए तो इसका बुरा असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ सकता है।

sugarcane_2504

Advertisement
  • गन्ने का जूस उसी स्थिति में लाभकर होता है जब आप उसे ताजा पीयें। यदि आपको कोई फ्रीज किया हुआ जूस दे तो उसे न पीयें। बासी गन्ने के जूस में मक्खियां पनप सकती हैं। इतना ही नहीं उसमें कीड़े आदि भी लग सकते हैं जो आपके लिए नुकसान दायक हो सकता है।

गन्ने का रस पीने से होंगे ये फायदे :

  • कैंसर से बचाव गन्ने के रस में कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन और मैग्नेशियम की मात्रा अधिक पाई जाती है। गन्ने का रस कई तरह के कैंसर से लड़ने में सहायक है। प्रोस्टेट और स्तन कैंसर से लड़ने में भी इसे कारगर माना जाता है।
  • पाचन को ठीक रखता है गन्ने के रस में पोटैशियम की अधिक मात्रा होने की वजह से यह शरीर के पाचनतंत्र के लिए बहुत फायदेमंद है। यह रस पाचन सही रखने के साथ-साथ पेट में संक्रमण होने से भी बचाता है।
  • ह्रदय रोगों से बचाव -यह रस दिल की बीमारियों जैसे दिल के दौरे के लिए भी बचावकारी है ।गन्ने का रस से शरीर में कॉलेस्ट्रोल और ट्राईग्लिसराइड का स्तर गिरता है।
  • वजन कम करने में सहायक – गन्ने का रस शरीर में प्राकृतिक शक्कर पहुंचाकर और खराब कॉलेस्ट्रोल को कम करके आपका वजन कम करने में सहायक होता है।
  • डायबिटीज का इलाज  – गन्ना स्वाद में मीठा और प्राकृतिक शुगर से भरपूर होता है ।इसमें कम ग्लाइसीमिक इंडेक्स की वजह से यह मधुमेह के रोगियों के लिए अच्छा होता है।

No Data
Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>