Home > धर्म कर्म

सावन 2018: भोलेनाथ को बेल पत्र के अलावा ये पांच चीज भी है अति प्रिय

शिव पुराण में शिव और बेल के पत्तों की महिमा बताई गई है। कहा जाता है यदि शिवलिंग पर बेल पत्तियां चढ़ाई जाये तो भगवान शिव बहुत प्रसन्न होते हैं।

शिरडी साईं बाबा महाराष्ट्र

शिरडी में साईं बाबा के प्रकट होने की खबर फैलते ही, भक्तों की उमड़ी भीड़

आजकल सोशल मीडिया पर शिरडी साईं बाबा के प्रकट होने की खबरें काफी तेजी से वायरल हो रही हैं। सभी टी,वी चैनलों में एक वीडियो बार-बार दिखाया जा रहा है

amavasya

अमावस्या पर भूलकर भी न करें ये काम

ये तो आप सभी जानते ही होंगे कि हिन्दू धर्म में अमावस्या का विशेष महत्व है और इसे पितरों के लिए माना जाता है। आषाढ़ मास 13 जुलाई यानि के

2018 में पड़ने वाले सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण के दिन और समय के साथ विस्तार से जानकारी

2018 में पड़ने वाले सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण के बारें में जानिए क्या है खास

जब भी सूर्य ग्रहण या फिर चंद्र ग्रहण की बात होती हैं तो सबसे पहले लोगो के बीच ग्रहण के समय मे किये जाने वाले नियमों की चर्चा शुरू हो

शंगचूल महादेव मंदिर – समाज के ठुकराए प्रेमी जोड़ो को यहां मिलता है आसरा

हिमाचल का कुल्लू मनाली जो अपने प्राकृतिक सौन्दर्य के लिए काफी प्रसिद्ध है। यहाँ के ऊँचे-ऊँचे पहाड़, झरने, नदी और चारों तरफ हरा-भरा वातावरण एक अलग ही मनमोहक छटा बिखेर

Vishnu bhagwan aarti Om Jai Jagdish Hare in hindi

विष्णु भगवान की आरती

ओम जय जगदीश हरे आरती ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥ ओउम...... जो ध्यावे फल पावे, दुःख विनसे मन का। सुख सम्पति घर आवे,

Maa Ambe ji ki Aarti

माँ अम्बे जी की आरती

आरती: अम्बे जी की जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी । तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी ॥ मांग सिंदूर विराजत टीको मृगमद को । उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रवदन नीको ॥ जय.. कनक

Ganesh ji ki Aarti in Hindi

गणेश जी की आरती

आरती श्री गणपति जी की जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ जय... एक दंत दयावंत चार भुजा धारी। माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥ जय... अंधन को

Shanidev ne li Pandavon ki Pariksha

जब अज्ञातवास में शनिदेव ने ली पांडवों की कठोर परीक्षा

महाभारत के युद्ध से पहले जब द्युत में हारने के कारण पांडवों को 12 वर्ष का वनवास और 1 वर्ष का अज्ञातवास (बिना किसी के पहचान में आए अपरिचित जगह