Monday, 23 October, 2017
Home > यात्रा > एक बार तो जाए छत्तीसगढ़ फिर नियाग्रा का फॉल भूल जाएगे

एक बार तो जाए छत्तीसगढ़ फिर नियाग्रा का फॉल भूल जाएगे

एक बार तो जाए  छत्तीसगढ़ फिर नियाग्रा का फॉल भूल जाएगे ( traveled chhattisgadh )

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़  राज्य के  बस्तर में पर्यटकों की  बहुत ही बड़ी संख्या यहां के जल प्रपातों, गुफाओं, राष्ट्रीय उद्यानों  तथा यहां की निराली दुनिया को देखने जाती है यह बहुत ही आकर्षक लगते है जो लोगो को अपनी और खीच रहे है  बस्तर आने के लिए पहले जगदलपुर से होके आना पड़ता है जो कि बस्तर का प्रमुख नगर है।

रेल यात्रा

यदि आप जाए तो रायपुर तक रेल से उसके बाद सड़क मार्ग से जगदलपुर जाना होता है इस लम्बे  सफर में लगते हैंलगभग 9,10  घंटे, इस मार्ग से गुजरते  समय आपको उड़ीसा की पहाडि़यों के सौंदर्य को देखने का एक अद्भुत अवसर भी प्राप्त होता है इस अनूठे रेल मार्ग का जो समय होता है उसमे एक नया रोमांच होता है।

उड़ीसा की पहाड़िया

deccan_plateau

बस्तर के जलप्रपातों को देखने का सबसे अच्छा समय  माना जाए तो वह होगा  अक्टूबर से फरवरी के बिचका  अक्टूबर  में वहा का मौसम बहुत ही सुहावना होता है।चित्रकोट के गोदावरी नदी  पर चित्रकोट नामक स्थान पर यह विशालतम जलप्रपात है।

विशाल गिरती जलधारा

इसकी विशाल गिरती जलधारा के कारण इसे भारत का नियाग्रा भी कहा जाता है जब यह गिरते है उची पहाड़ियों से तब इतना अदभुत द्रश्य होता है आप देख  के चकित रह जाएगे । बरसात के मौसम में इस प्रपात का वेग बहुत ही ज्यादा होता है ।

_13722498572

जगदलपुर से चित्रकोट प्रपात की दूरी 40 किमी है। इस स्थान पर इंद्रावती नदी की जलधारा 90 फीट की ऊंचाई से भारी वेग के साथ गिरती है। इस विशाल जलधारा  के नीचे गिरने से पैदा होने वाली जल की सूक्ष्म बूंदें आस-पास कुहासा पैदा करती हैं।तब यह द्रश्य अपनी अलग ही छटा बिखेर देती है चारो तरफ

यह काफी  चौडी यानि डेढ़ सौ मीटर तक फ़ैल जाती है बरसात के मौसम में । बरसात  में कुछ  दिक्कतों जैसे  बाढ़ आदि  के कारण कम ही पर्यटक यहां आते हैं। बरसात  में यह जलप्रपात रौद्र रूप ले लेता है

53390957

शीत ऋतु में इसका सौंदर्य अतिरमणीय हो जाता है। इस जल प्रपात का रंग दिन  के हिसाब से बदलता रहता है। नीचे गिरते ही नदी का प्रवाह शांत हो जाता है इस जल प्रपात के  निचे आप  बोटिंग का आनंद ले सकते हैं।

chitrakot-waterfall1_1464

ठहरने का प्रबंध

चित्रकोट के सौंदर्य को यदि आप अपनी आँखों से देखना चाहते है तो जरुर जाए इसे देखने के लिए एक दिन कम से कम आपको चाहिए। तब आप इस जल प्रपात के हर रूप को आराम से देख सकते हैं। रुकने के लिए सबसे अच्छा है वहा का विश्रामगृह वहा से आपको इसकी सुन्दरता आराम से दिख सकती है अगर विश्राम गृह में रूम न मिल पाए तो बहुत से होटल  की भी सुविधा प्राप्त हो जाएगी आपको ।

dscn0896

Title: traveled chhattisgadh
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *