उबली चायपत्ती को फैकने की ना करे गलती,इसके फायदे जान उड़ जायगे होश

उबली चायपत्ती को फैकने की ना करे गलती,इसके फायदे जान उड़ जायगे होश ( use of waste boiled tea )

चाय ऐसी ड्रिंक है जो हर घर में बनती हैं  मेहमानो  के घर आने पर बने  या थकान मिटाने के लिए बने पर बनती जरुर है। अक्सर लोग चाय बनाने के बाद इसकी पत्ती को बेकार समझ कर फैंक देते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस उबली हुई चाय पत्ती के कितने फायदे है।  चाय की पत्ती का आप घर पर बहुत से कामों के लिए इस्तमाल कर सकते है तो चलिये आपको बताये की क्या फायदे है इस उबली चाय की पत्ती के….

घाव भी जल्दी भर जाता है

यदि चोट लग जाये तो आप उस पर उबली हुई चाय की पत्ती लगा दे तो खून बहना बंद हो जाता है।और घाव भी जल्दी भर जाता है।

Advertisement

बाल चमकदार और मुलायम हो जाते है

मेंहदी में चाय की पत्ती, आंवला मिलाकर लगाने से बालो को काफी फायदा मिलता है।इससे बाल चमकदार और मुलायम हो जाते है।

काबुली चने में डाले

अगर आपका काबुली चने बनाने का मूड हो रहा हो तो चने उबालते समय चाय की पत्ती की पोटली बनाकर उसमे डाल दें। इससे चने का रंग बढिया आएगा और स्वाद भी बेहतर हो जायेगा।

Advertisement

मनीप्लांट और गुलाब के पौधे में डालें

चाय बनाने के बाद आप उसे अच्छे से पानी से धोकर छान ले फिर मनीप्लांट और गुलाब के पौधे में डालें यह बढ़िया खाद का काम करता है इन प्लांट पर।

घी और तेल की स्मेल भी खत्म हो जाती है

चाय बनाने के बाद बची हुई पत्ती को यदि दुबारा उबाल कर घी और तेल के चिकनाई वाले बर्तन  साफ किये जाये तो वह जल्दी साफ भी हो जाते है ।और उनमे चमक भी आजाती है,घी और तेल की स्मेल भी खत्म हो जाती है ।

मक्खिया नही आएगी

मक्खियों ने यदि परेशान कर दिया है तो आप उबली चाय पत्ती को धो ले फिर उसे किसी कपडे में बांध कर उस जगह पर रगड़ दें जहां पर मक्खियां बैठी हो। ऐसा करने से दोबारा उस जगह पर मक्खिया नही आएगी।

Advertisement

फर्नीचर चमक उठेंगे

चायपत्ती को दोबारा उबाल लें, इस पानी को एक स्प्रे बॉटल में भरकर, फर्नीचर की सफाई करें, इससे फर्नीचर चमक उठेंगे।

Advertisement
No Data

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>