Home > कहानियाँ > तेनालीराम की कहानियां
Old Beggar Maharaj Krishnadevaraya Generosity Tenali Rama Hindi Story बूढा भिखारी और महाराज कृष्णदेवराय की उदारता

बूढ़ा भिखारी और महाराज कृष्णदेवराय की उदारता

इस बार तेनालीराम की कहानियों में आप पढ़ेंगे "बूढ़ा भिखारी और महाराज कृष्णदेवराय की उदारता"। कहानी में तेनालीराम अपनी बुद्धिमानी से महाराज कृष्ण देव राय को समझाता है कि वास्तव

tenaliraman in rajdarbar

तेनालीराम की नली का कमाल

राजा कृष्णदेव राय का दरबार लगा हुआ था। महाराज अपने दरबारियों के साथ किसी चर्चा में व्यस्त थे। अचानक से चतुर और चतुराई पर चर्चा चल पड़ी। महाराज कृष्णदेव के दरबार

Cat Fears Milk Doodh Na Peene Wali Billi Tenali Raman Short Stories In Hindi

दूध न पीने वाली बिल्ली  

जब नगर में चूहों का आतंक बढ़ने लगा तो महाराज कृष्णदेव राय ने सभी नगरवासियों को एक-एक बिल्ली देकर 3 महीने तक बिल्ली को दूध पिलाकर पालने का आदेश दिया।

Tenali Raman Bna Jatadhari Sanyasi Tenali Raman Short Stories In Hindi

तेनालीरामन बना जटाधारी सन्यासी

महाराज कृष्णदेव राय और तेनालीरामन की कहानियों में पिछली कहानी आपने पढ़ी तेनालीराम के बाग की सिंचाई और आज हम आपके लिए लाएँ हैं “ तेनालीरामन बना जटाधारी सन्यासी” इस

सुनहेरा पौधा (तेनालीराम की मनोरंजन कहानियाँ)

सुनहरा पौधा

तेनालीराम की बुद्धिमानी के किस्सों के पिटारे से आज हम आपके लिए लाएं है तेनालीराम की एक और कहानी "सुनहरा पौधा"। इस कहानी में महाराज कृष्णदेव राय सुनहरे फूल वाले

tenali raman ke baag ki sinchai tenali raman short stories in hindi

तेनालीराम के बाग की सिंचाई

इस कहानी में आप पढ़ेंगे कि किस तरह चतुरों के चतुर तेनालीरामन  ने अपनी चतुराई से बिना एक पैसा खर्च किये चोरों से ही अपने बाग़ की सिंचाई करा ली। एक बार

बाढ़ से राहत तेनालीराम के किस्से Flood Rescue Baad Se Rahat Tenali Raman Ke Kisse In Hindi

बाढ़ और राहत बचाव कार्य

तेनालीराम और महाराज कृष्णदेवराय की रोचक कहानियों में अब तक आपने पढ़ा “गेहूं वही बोएगा जिसको कभी उबासी न आई हो..”। आज आप पढेंगे बाढ़ और राहत बचाव कार्य कहानी। इस

Gehun Vahi Boyega Jisko Kabhi Ubasi Na Aai Ho Tenaliram Kahani In Hindi

गेहूं वही बोएगा जिसको कभी उबासी न आई हो…….

इस कहानी में महाराज कृष्णदेवराय अपनी महारानी तिरुमाला से किसी बात को लेकर नाराज हो जाते हैं और बात तक करना बंद कर देते हैं लेकिन अपनी सूझ बुझ से

तेनालीराम और रसगुल्ले की जड़

तेनालीराम और रसगुल्ले की जड़

एक बार ईरान का व्यापारी चाँद खाँ भारत में किसी निजी यात्रा पर आया था। इसलिए बहुत दिनों तक उसने भारत के अनेक नगरों का भ्रमण किया। एक दिन उसने

होली का उत्सव और महामूर्ख की उपाधि

होली उत्सव और महामूर्ख की उपाधि

राजा कृष्णदेव राय और तेनालीराम की रोचक कहानियों की श्रृंखला में आज आप पढेंगे "महामूर्ख की उपाधि"। कैसे प्रतिवर्ष होने वाले होली उत्सव में हर बार की तरह इस बार