दशहरा मतलब क्या है और क्यों मनाते है इसे जाने

दशहरा मतलब क्या है और क्यों मनाते  है इसे जाने ( means of dashahara )

दशहरा हिन्दुओ द्वारा मनाया जाने वाला प्रमुख त्यौहार है

यह   पूरे भारतवर्ष  में मनाया जाता  है, जिसेमें  माँ दुर्गा और भगवान श्रीराम की मुख्य भूमिका है। माना जाता  है कि माँ दुर्गा ने महिषासूर से लगातार नौ दिनो तक युद्ध करके दशहरे के दिन ही महिषासुर का वध किया था।

nav_durga_hdkyzo

Advertisement

इसीलिए दुर्गा के  9 शक्ति रूप  के विजय-दिवस के रूप में विजया-दशमी मनाया जाता है। और  भगवान श्रीराम ने भी  नौ दिनो तक रावण के साथ युद्ध करके दसवें दिन ही रावण का वध किया था, इसलिए इस दिन को भगवान श्रीराम के भी विजय के रूप में मनाते हैं। दशहरा  यानी दस सिर वाले रावन का वध राम ने किया था इसलिए इसे दशहरा कहा गया

img_4859

मान्यता  अनुसार पुराने समय में  राजा-महाराजा जब किसी दूसरे राज्‍य पर आक्रमण कर उस पर कब्‍जा करना चाहते थे, तो वे आक्रमण के लिए इसी दिन का चुनाव करते थे,क्‍योंकि हिन्‍दु धर्म में  इस दिन जो भी काम किया जाता है, उसमें विजय यानी सफलता प्राप्‍त होती है किसी भी चीज की शुरूआत करने के लिए इस दिन को उतना ही महत्‍व देते हैं जितना  दिपावली या उससे  पहले  धनतेरस  को देते हैं।

भारत में दशहरे को लेकर विभिन्‍न प्रकार की मान्‍यता है  तथा इसे मनाने के तरीके भी अलग-अलग राज्‍यों में अलग-अलग तरह के हैं।

Advertisement

नवरात्रों में गरबा

गुजरात का गरबा नृत्य ही गुजरात के नवरात्रि व दशहरे पर्व की शान है। पूरे भारतवर्ष में गुजरात का गरबा डांस बहुत मसहूर है नवरात्रों में बस इसी की धूम मची होती है ।

dussehra-gujarat

हिमाचल प्रदेश में दशहरा

 इस दिन हिमाचल के लोग सज-धज के ढोल नगाडा   लेकर पुरे  जोश के साथ भगवान राम  की पालकी निकालते हैं तथा अपने मुख्‍य देवता भगवान रघुनाथ जी अर्थात राम जी  की पूजा करते हैं।

पंजाब का दशहरा

india26_1412602929

पंजाब में दशहरा, नवरात्रि के नौ दिन लगातार उपवास रखकर विजय-दशमी को अपना उपवास खोलते हुए मनाते हैं। माँ दुर्गा की पूजा अर्चना खूब की जाती है

बंगाल में दुर्गा पूजा

बंगाल में यह पर्व दुर्गा पूजा के रूप में ही मनाया जाता है जो कि बंगालियों का  सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। इस त्‍योहार को पूरे बंगाल में पांच दिनों तक मनाया जाता है  दुर्गा पूजा के लिए मां दुर्गा की मुर्तियों को भव्य पंडालों में विराजमान करते हैं। तथा सप्तमी, अष्टमी एवं नवमी के दिन प्रातः और सायंकाल भव्‍य दुर्गा पूजा का आयोजन होता है। विशाल भंडारे का आयोजन किया जाता है

Advertisement

इसी तरह अलग –अलग राज्यों में अलग अलग तरीके से दशहरे का पावन त्यौहार उत्सुकता से मनाया जाता है

No Data

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>