मटके में तेनालीराम

matke main tenaliram
matke main tenaliram

राजा कृष्णदेव राय और तेनालीराम की मजेदार कहानियों की श्रंखला में आज आप पढेंगे “मटके में तेनालीराम”
इस कहानी में तेनालीरामन से महाराज किसी बात को लेकर बहुत अधिक नाराज हो जाते है और तेनाली को दरबार में अपनी शक्ल तक न दिखाने का आदेश दे देते है। लेकिन तेनालीराम फिर भी अपनी समझदारी से महाराज की आज्ञा का उलंघन किया बिना दरबार में उपस्थिक भी हो जाता है और महाराज की नाराजगी भी दूर कर देता है। इस कहानी में जानिए कैसे?
आप यहाँ क्लिक करके तेनालीरामन की पिछली कहानी “राजगुरु की चाल” पढ़ सकते है…

एक बार महाराज कृष्णदेव राय तेनालीराम से इतने नाराज़ हो गए कि उन्होंने उसे अपनी शक्ल न दिखाने का आदेश दे दिया और कहा ,“ अगर उसने उनके हुक्म की अवहेलना की तो उसे  कोड़े लगायें जाएंगे।”

Advertisement

महाराज उस समय बहुत क्रोधित थे इसलिए तेनालीराम ने वहाँ से जाना ही उचित समझा ।

अगले दिन जब महाराज राजदरबार की ओर आ रहे थे तो तेनालीराम से चिढ़ने वाला एक दरबारी  महाराज को तेनालीराम के खिलाफ भड़काता जा रहा था।वह महाराज से बोला, “आज तो तेनालीराम ने आपके आदेश की अवहेलना की हैं । आपके मना करने के बावजूद भी वह दरबार में आया हैं और वहाँ ऊल -जुलूल हरकतें करके सबको हंसा रहा हैं।”

दरबारी की बात सुनकर महाराज के कदम तेज़ी से राजदरबार की ओर बढ़ने लगे। राजदरबार पहुँचते ही महाराज ने देखा की तेनालीराम ने अपने मुख पर मटका पहन रखा हैं , जिसमें आँख की जगह दो छेद बने हुए हैं ।यह देखते ही महाराज आग- बबूला हो गए और तेनालीराम पर गरजे , “ एक तो तुमने हमारा हुक्म नही माना और ऊपर से ये अजीबों – गरीब हरकतें कर रहे हो ।अब तो तुम कोड़े खाने के लिए तैयार हो जाओ।

जैसे ही महाराज ने ये कहा ,तेनालीराम के विरोधी बहुत खुश हुए लेकिन तभी तेनालीराम बोला, “ महाराज मैंने तो आपकी किसी आज्ञा का उल्लंघन नहीं किया हैं।आपका आदेश था की मैं आपको अपना चेहरा न दिखाऊँ।क्या आपको कहीं से मेरा चेहरा दिख रहा हैं ? यदि ऐसा हैं तो जरुर उस कुम्हार ने मुझे फूटा हुआ मटका दे दिया हैं।”

Advertisement

तेनालीराम की बात सुनते ही महाराज का गुस्सा छूमंतर हो गया और उनकी हंसी छूट पड़ी ।वे बोले, “ किसी ने सच ही कहा हैं कि बेवकूफों और विदूषकों पर नाराज़ होना व्यर्थ हैं।अब इस मटके से मुंह को बाहर निकालो और अपने आसन पर बैठ जाओ। तेनालीराम के विरोधी फिर से मन मारकर रह गए ।

No Data

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>