कृष्णा की मेहनत रंग लाई

कृष्णा की मेहनत रंग लाई ( krisna ki mehant rang lai in hindistory )

एक गाँव में कृष्णा नाम की लडकी रहती थी वह कक्षा 10 वी की छात्रा थी । कृष्णा छोटे जाती की थी इसलिए उसे स्कूल में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता था। स्कुल में सभी बच्चे उससे दूर रहते थे क्योकि उनके माँ बाप उन्हें धमकाते थे की छोटी जात से दूर रहना चाहिए उस गांव में छुआ छुत का बड़ा ही भेद भाव था छोटी जाती को बहुत ही हिन् भावना से देखा जाता था

20chu3_1474529688

Advertisement

कृष्णा को  इन सब चीज़ों से बहुत दुःख होता था एक दिन उसने अपने साथ हो रहे भेदभाव को अपने घरवालो को बताया पर घरवालो ने उल्टा अपनी बेटी को ही डाट दिया कि तू ऊँची जाति के बच्चों से दूर रहा कर।

कृष्णा के पिता भी इन सब कुरीतिओ से बहुत दुखी थे अपनी बेटी की बात सुनकर वह बहुत दुखी हुए और अपनी बेटी से कहने लगे बेटा जबतक तुम पढ़ लिख कर बड़ी नही बन जाओगी तब तक तुझे यह सब सहना पड़ेगा  इसलिए मन लगा कर खूब पढ़ और बड़ी आदमी बन जा तब हमारे दिन बद्लेगे

big_415514_1462956538

कृष्णा को अपने पिता की  बात समझ आ गयी। और उसने पुरे दिल से पढाई करके आगे पढ़ने का सोचा। और उसके बाद तो उसने पढाई में अच्छे नंबर लाना शुरू कर दिया। पर गांव के बड़ी जाती के लोग कृष्णा को बहुत तंग किया करते पर कृष्णा अपने अटल इरादों में टस से मस नही हुई उसके पिता भी उसका हर कदम पे साथ देते थे।

Advertisement

bvmnmnm_1463440349
10 वी की परीक्षा में कृष्णा बहुत अच्छे नंबरों से पास हुई तो सरकार ने उसे खूब सारा धन इनाम में दिया वह अब आगे की पढाई के लिए शहर गई और आगे पढ़ना शुरू कर दिया बहुत मेहनत की अपनी पढाई में और एक दिन वह बड़ी कलेक्टर बन गई

जब वह बड़ी अफसर बन कर अपने गांव लोटी तो उसके घर बहुत जमावड़ा लगा हुआ था जो लोग उसे छूने से हिचकते थे आज वही सब उसके घर उसी के स्वागत में खड़े थे

buland1_1470051291

उसके पिता के आँखों में खुसी के आंसू भर आये थे और वह अपनी बेटी को इतनी उचाई में देख कर बहुत ही खुश थे वह कहने लगे बेटा आज तूने छुआ छुत को सहराने वालो को अपने कदमो में झुका दिया है अब कोई तुझे परेशान नही करेगा की तू नीच जाती की है कृष्णा के मुख पर भी हल्की सी मुस्कान थी अपने पिता को देख कर

कहानी की सिख– हमे इन रुड़ीवादी प्रथाओ को बढ़ावा नही देना चाहिए सभी जाती का खून लाल ही है सब एक ही है फिर ये भेद –भाव कैसा सबको समाज में बराबर जीने का हक है तो आप भी ये भेद-भाव ना करे ना किसी के द्वारा होने दे

Advertisement
No Data

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>