Monday, 18 December, 2017
Home > lord

चन्द्रमा को करे प्रसन्न उनके मन्त्रो द्वारा

ज्योतिष कहते है चतुर्थी तिथि को चंद्रमां को अर्घ प्रदान करने का विशेष महत्तव होता है। इस मंत्र के साथ चंद्रमां को अर्घ प्रदान करना चाहिए क्षीरोदार्णवसम्भूत अत्रिगोत्रसमुद् भव । गृहाणाध्र्यं शशांकेदं

उदयगिरी की गुफाएँ जो मन मोह ले

10 वीं शताब्दी में जब उदयगिरी विदिशा धार के परमारों के हाथ में आ गया, तो राजा भोज के पौत्र उदयादित्य ने अपने नाम से इस स्थान का नाम उदयगिरि

भगवान शिव ने काटा ब्रम्हा का सर इसलिए

यह हम सभी को ज्ञात ही है और इसका उल्लेख तो पुराणों में भी है की ब्रम्हा  विष्णु और महेश यह संसार के सबसे शक्तिशाली भगवान हैं।यह सम्पूर्ण संसार के

भगवान “गणेश” की पूजा में दूर्वा का महत्व क्या है जानिये

हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार भगवान गणेश का एक रूप धूम्रकेतु है कहा जाता है ।भगवान गणेश के इसरूप की पूजा करने से मनोकामना पूर्ण हो सकती है इसलिए बड़ी आस्था

भगवान सत्यनारायण कौन है उन्हें क्या प्रसाद चड़ता है तथा उनकी कथा क्या है आइए जाने

यह कथा भगवान विष्णु  के सत्य स्वरूप की सत्यनारायण व्रत कथा है। सत्यनारायण भगवान की कथा लोगो में बहुत प्रचलित है।  यह हिंदू धर्म में  सबसे प्रतिष्ठित व्रत कथा के

ऋषि पंचमी व्रत क्यों मनाई जाती है आइए जाने

ऋषि पंचमी व्रत  क्यों मनाई जाती है यह व्रत भाद्र पद के माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को ऋषि पंचमी के रूप में मनाया जाता है|यह व्रत सभी के लिए

जाने स्वास्तिक क्या है और इसे क्यों बनाया जाता है

स्वास्तिक क्या है यह तो हर हिन्दुधर्म के अथवा अन्य धरम  वाले भी जानते होगे जो इसे मानते हो तो आइए जाने क्या है स्वास्तिक के पीछे कुछ तथ्य |स्वास्तिक