Home > धर्म कर्म > गौरी पुत्र भगवान गणेश जी के शुभ 108 नाम और उनके अर्थ

गौरी पुत्र भगवान गणेश जी के शुभ 108 नाम और उनके अर्थ

गौरी पुत्र भगवान गणेश जी के शुभ 108 नाम और उनके अर्थ ( 108 names of lord ganesha in religion )

Lord Ganesh 108 Names in Hindi – माता पार्वती और भोले नाथ के पुत्र भगवान श्री गणेश को हिन्दू धर्म में सर्व प्रथम पूजा जाता है। इनकी सवारी मूषक यानि के चूहा है। और प्रिय भोग मोदक है। हाथी जैसा सिर होने के कारण इन्हें गजानन भी कहते हैं। गणेश जी को विभिन्न प्रान्तों में विभिन्न नामो से जाना जाता है। आज हम आपको गणेश जी के शुभ 108 नामो को बताने जा रहें हैं नीचे पढ़िये…

गणेश जी के 108  नाम निम्न प्रकार है:
1.बालगणपति : सबसे प्रिये बालक
2.-भालचंद्र : जिसके मस्तक पर चन्द्रमा हो
3.-बुद्धिनाथ : बुद्धि के भगवान
4.-धूम्रवर्ण: धुएं को उड़ाने वाला
5.-एकाक्षर : एकल अक्षर
6.-एकदन्त : एक दात वाले
7.-गजकर्ण : हाथी की तरह कान वाला
8.-गजानन : हाथी के तरह मुख वाले भगवान
9.-गजवक्र: हाथी की सूडवाला
10.-गजवक्त्र : जिसका हाथी की तरह मुख है
11.-गणाध्यक्ष: सभी गणों के मालिक
12.-गणपति : सभी गणों के मालिक
13.-गौरीसूत: माता गौरी के पुत्र
14 -लम्ब कर्ण : बड़े कान वाले
15 -लम्बोदर : बड़े पेट वाले
16 – महाबल : बलशाली
17 -महागणपति : सबके स्वामी
18 -महेश्वर : ब्रह्मांड के भगवान
19- मंगलमूर्ति : शुभ कार्य के देव
20 -मूषक वहन : जिसका सारथि चूहा है
21 -निदेश्वरम  : धन और निधि के दाता
22 -प्रथमेश्वर : सबके बिच प्रथम हो
23 -शुपकर्ण: बड़े कान वाला
24 -शुभम : सभी शुभ कार्यो के प्रभु
25 – सिद्धधी दाता: इच्छाओ और अवसरों के दाता
26 -सिद्धधी विनायक : सफलताओ  के स्वामी
27 -सुरेश्व्र्म : देवो के देव
28 -वक्रतुंड : घुमावदार सूड
29 -अखुरथ :जिसका सारथि मूषक हो
30 -अल्म्पता :अनन्त देव
31 -भाल चन्द्र :जिसके सर पर चंद्रमा सुसोभित हो
32 -अमित: अतुल्य प्रभु
33 -अन्नतचिदरूपम : अनंत और व्यक्ति चेतना
34 -अवनीश : पुरे विश्व के प्रभु
35 -अविघ्न : बाधाओ को हरने वाले
36 -भीम : विशाल
37 -भूपती:  धरती के मालिक
38 -भुवनपति: भवनों के मालिक
39 -बुद्धिप्रिये :ज्ञान के दाता
40 -बुद्धिविधाता : बुद्धि के मालिक
41 -चतुर्भुज : चार भुजाओ वाले
42 -देवादिदेव : सभी देवो में सर्वो परी
43 -देवंत्क्नाशाकारी : बुराइयो तथा असुरो के नाशक
44 -देवव्रत: सबकी तपस्या स्वीकार करने वाले
45 -देवेन्द्रआशिक:  सभी देवताओ की रक्षा करने वाले
46 – धार्मिक : दान देने वाला
47 -दुर्जा : अपराजित देव
48 -द्वेन्द्राशिक : सभी देवताओ की रक्षा करने वाला
49 -द्वेमतुर : दो माताओ वाले
50 -एक्द्रष्ट : एकदात वाले
51 -इशान्पुत्र : भगवान शिव के बेटे
52 -गधाधर: जिसका अस्त्र गधा हो
53 -गणाध्य्क्षीण: सभी पिंडो के नेता
54 -गुणिन: जो सब गुणों के ज्ञानी है
55 -हरिद्रा : स्वर्ण के रंग वाला
56  -हेरम्ब : माँ का प्रिये पुत्र
57 -कपिल: पीले भूरे रंग वाला
58 -काविश : कवियों के स्वामी
59 -कृति : यश के स्वामी
60 -कृपाकर : कृपा करने वाले
61 -कृष्ण पिंगाश : पिली भूरी आँखों वाले
62 -क्षेमंकरी : माफ़ी प्रदान करने वाले
63 – क्षिप्रा : अर्धना के योग्य
64 -मनोमय: दिल जितने वाले
65 -मृत्युंजय : मौत को हरने वाला
66 -मूढाकर्म: जिसमे खुशी  का वास हो
67 -मुक्तिदाई: शास्वत दंड  के दाता
68 -नाद प्रतिष्ठित : जिसे संगीत से प्यार हो
69 -नम्स्थेतु: सभी बुराइयों और पापो पर विजय प्राप्त  करने वाला
70 -नंदन : भगवान शिव का बेटा
71 -सिधान्त : सफलता और उपलब्धियों के गुरु
72  -पीताम्बर : पीले वस्त्रा धारण करने वाला
73 -प्रमोद : आनंद
74 -रक्त : लाल  रंग के शरीर वाला
75 -रूद्र प्रिये : भगवान शिव के प्रिये
76 -सर्वदेवात्मणन : सभी प्रशाद के स्वामी स्वीकरता
77 -सर्वसिधान्त: कौशल तथा बुद्धि बके दाता
78 -सर्वात्मन: ब्रम्हांड की रक्षा करने वाला
79 -ओमकार :  ॐ के आकर वाला
80 -शशिवर्णम: जिसका रंग चन्द्रमा  को भाता हो
81-शुभगुणकानन: जो सभी गुणों के स्वमी हो
82-श्वेता : जो सफेद रूप में शुद्ध है
83-सिद्धिप्रिये: इच्छापूर्ति वाले
84-स्कन्द पूर्वज : भगवान कार्तिके के भाई
85 –सुमुख :  शुभ मुख वाले
86-स्वरूप- सौन्दर्य के प्रेमी
87-तरुण: जिसकी कोई आयु  न हो
88-उद्दंड : शरारती
89-उमापुत्र: पार्वती के बेटे
90-वरगनपति : अवसरों के स्वामी
91-वरप्रद – अवसरों और इच्छाओ के अनुदाता
92-वरद विनायक : सफलता के स्वामी
93- वीरगणपति : वीर प्रभु
94-विद्यावारिधि : बुद्धि के देव
95-विघ्न हरन : बाधाओ को दूर करने वाले
96-विघ्नहर्ता : विघ्नों को हरने वाले
97-विघ्नविनाशक : बाधाओ का अंत करने वाले
98-विघ्नराज : सभी बाधाओं के मालिक
99 -विघ्न विनाशये: सभी बधाओ का नाश करने वाले
100 -विघ्नेश्वर  : सभी बधाओ को हरने वाले भगवान
101 -विकट  : अत्यंत विशाल रूप वाला
102 -विनायक : सबका भगवान कहलाने वाला
103 -विश्वमुख : ब्रह्माण्ड के गुरु
104   -विश्वराजा :संसार के स्वामी
105-याग्यकाय : सभी पवित्र तथा बलि को स्वीकार करने वाले
106 -यशस्कर : प्रसिद्धी और भाग्य के स्वामी
107 -यशस्विन :  सबसे प्यारे और लोकप्रिय देव
108 -योगाधिप :  ध्यान के प्रभु

 

Read all Latest Post on धर्म कर्म Religion in Hindi at Hindirasayan.com. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Title: 108 names of lord ganesha in religion worship in Hindi | In Category: धर्म कर्म Religion
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Author at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!