प्रेरक प्रसंग: मलिन झोपड़ी में नियत अवधि से भी अधिक गुजारना बड़ी भारी मुर्खता हैं

एक समय की बात है सुखदेव जी महाराज राजा परीक्षित को श्रीमद्भागवत पुराण सुना रहे थे। कथा सुनाते हुए सुखदेव जी महाराज को 6 दिन बीत चुके थे और साथ