इर्ष्या में किया खुदका नुकसान

एक व्यक्ति था शिवलाल वह कही जा ही रहा था और बहुत जल्दी में था, तो अचानक वहा न्याय के देवता यमराज प्रकट हुए यमराज ने शिवलाल से पीने के