पशु ,पशु ही होता है

पशु ,पशु ही होता है ( animals is )
hindirasayan

एक राजा था जो अक्सर जंगल में शिकार को जाता था एक बार जंगल में राजा को एक बंदर बहुत पसंद आया  उसने उस बंदर को  महल में अपने पास रख लिया वह राजा उसे काम करना सिखाता था फिर बंदर भी राजा के सब काम करता था जब राजा सोता तो वह पंखा करता था वह दोनों अच्छे मित्र बन गए थे

पर लोगो को यह मित्रता  अटपटी लगती थी सबके समझाने पर भी राजा बंदर को अपने से दूर नही करता था एक रात राजा सो रहा था एक मक्खी राजा की नाक में बार बार आकर बैठ रही थी बंदर बार बार उसे हटा रहा था पर वो हट ही नही रही थी

Advertisement

बंदर को अब बहुत क्रोध आया उस मक्खी पर फिर बन्दर ने पास में रखी राजा की तलवार उठाई और मक्खी को मारने ही वाला था की राजा के पहरेदार ने देख लिया और वह दौड़कर आया और बन्दर से तलवार छीन ली इतने में उस राजा की नींद टूट गई

unnam

जब राजा ने सारी बात जानी पहरेदार से की वो बंदर तलवार उठा कर राजा के नाक में बैठी मक्खी को मारने वाला था

hqdefault

Advertisement

राजा को तब बात समझ आई की पशु ,पशु ही होता है राजा ने फिर उस बंदर को जंगल में ले जा कर छोड़ दिया

कहानी की सिख- एक मुर्ख मित्र नुकसानदायक होता है

No Data

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>