दुःख

दुःख ( sorrow )

जीवन से प्रेम करो और अधिक खुस रहो जब तुम एकदम प्रशन्न होते हो,सम्भावना तभी होती है|

कारण तभी यह है की दुःख तुम्हे बंद कर देता है|सुख तुम्हे खोल देता है|

क्या तुमने येही बात अपने जीवन में नही देखि ? जब भी तुम दुखी होते हो,बंद हो जाते हो,एक कठोर आवरण तुम्हे घेर लेता है|

प्रशन्न व्यक्ति फुल की तरह खिला हुआ रहता है|

Read all Latest Post on सुविचार Suvichar in Hindi at Hindirasayan.com. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Title: sorrow suvichar in Hindi | In Category: सुविचार Suvichar
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Author at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: हिंदीरसायन.कॉम, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, हिंदीरसायन.कॉम के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उलंघन है। ऐसा करने वाला व्यक्ति व संस्था स्वयं कानूनी हर्ज़े - खर्चे का उत्तरदायी होगा।
queries in 0.156 seconds.