बुरी संगति का असर

बुरी संगति का असर ( दो मित्रों की कहानी)
बुरी संगति का असर ( दो मित्रों की कहानी) Photo: clipground.com

इस कहानी में आप जानेगे कैसे एक ईमानदार व्यक्ति भी बुरी संगति में रहकर एक ठग बनने चल पड़ा और बिना किसी कारण के दंड भोगना पड़ा।

उदयपुर नाम का एक गांव था जहाँ सभी लोग मिलजुल कर रहते थे। उसी गाँव के  पास रतनपुर नाम का गाँव था जिसमें राजू और अर्जुन नाम के दो मित्र रहते थे। राजू लालची और ठगी इंसान था और अर्जुन बहुत ही ईमानदार था। अर्जुन यह सब जानता था लेकिन किसी के सामने कह नही सकता था क्योंकि वह बहुत गरीब था और उसका कहीं काम भी नही लगा था जिसकी वजह से वह पूरी तरह राजू पर निर्भर था। राजू ने भी उसे कभी बोझ नही समझा और अर्जुन की सारी जरुरतों को पूरा करता था।

Advertisement
Advertisement

एक दिन राजू ने उदयपुर में ठगी करने की योजना बनाई। वह उस गाँव में गया और जब वहाँ से वापस आया  तो उसके पास इतना सारा सामान था जितना की उसने  कभी देखा भी नहीं था। इतना सामन देखकरउसके मन में लालच आ गया और उसने उस गाँव में दोबारा जाने की सोचीपर इस बार उसने अर्जुन को भी अपने साथ जाने को कहा लेकिन अर्जुन ने मना कर दिया।

फिर राजू अकेले ही योजना बना कर उस गांव में दोबारा पहुँच गया और पहले की तरह इस बार भी खूब सामान ठग लिया। घर वापस आकर उसके मन में  फिर सवाल उठा की मैं और भी सामान ला सकता था। उसके मन का लालच ख़त्म ही नही हो रहा था और वह सोच रहा था कि अर्जुन अगर उसके साथ चलता तो वे दोनों बहुत सारा सामान ले आयंगे तो पहले की तरह उसने फिर अर्जुन सेफिर अपने साथ जाने के लिए दबाब डाला और कहा इस बार जो भी सामान हाथ लगेगा उसे आपस में आधा-आधा  बाँट लेंगे  इस बार अर्जुन मान गया क्योंकि इतना सारा सामान देखकर अर्जुन के मन में भी लालच आ गया और उसके मन में भी बईमानी आ गई।

उधर उदयपुर गाँव में भी बहुत हल्ला मचा हुआ था की दो दिन से उनका इतना सामान कहाँ गायब हो गया। तभी गाँव  के कुछ लोगों ने मिलकर  योजना बनाई की अब जब भी वह ठग आएगा हम सब मिलकर उसे पकड लेंगे।

village-scene-1938

Advertisement
Advertisement

 

रात हुई दोनों दोस्त ठगी के लिए चल दिए। राजू ने उसे सब समझाया ताकि वह कोई गलती ना करे उधर उदयपुर गांव के लोग भी छुपकर उनपर नज़र रखे हुए थे।

राजू को  कुछ दूर चलकर ही पता चल गया की कोई उनपर नज़र रख रहा है पर अर्जुन बेचारे को इस बारे में नहीं पता था। वह तो पहले से ही डरा और घबराया हुआ था।

राजू ने चालाकी देखी और अर्जुन से कहा की तू दीवार कूदकर घर के अंदर घुस जा, मैं पीछे आता हूँ। बेचारा अर्जुन जैसे ही दीवार कूदकर घर में घुसा राजू वहाँ से भाग गया और जल्दी से अपने घर का सारा सामान लेकर गांव छोड़ कर चला गया।

वहाँ उदयपुर में बेचारा अर्जुन अंदर घुस गया पर जब बहुत देर तक राजू अंदर नही आया। उसे समझ नही आ रहा था किअब वह करे तो क्या करें? वह बहुत डरा हुआ था।

उस घर में अँधेरा बहुत था जब उसने आगे बढने को कदम बढ़ाया तो उसके पैर से  बर्तन टकरा गए। बर्तनों के गिरने की आवाज सुनते ही सारे गाँव वाले उस घर के बाहर आ गए और उसे पकड़ लिया।

Advertisement

maxresdefault

अर्जुन बहुत घबराया हुआ था। वह बोल रहा था कि उसने कुछ नहीं किया और माफ़ी मांगने लगा पर गांव वालों ने उसे माफ़ नहीं किया।  वह बार बार कहता रहा की आज पहली बार मैंने ऐसा करने की कोशिश की थी मुझे माफ़ कर दो आज के बाद में कभी ऐसा नही करूँगा पर गाँव वालों ने उसकी एक ना सुनी और जो जुर्म उसने किया भी नही था उसका दंड उसे दे दिया गया ।

कहानी की सीख –

Advertisement

कभी-कभी हमारी दोस्ती ऐसे लोगों से हो जाती हैं जो की बिल्कुल भी अच्छे नहीं होते और हमें गलत काम करने के लिए प्ररित करते हैं।लेकिन हमें कभी ऐसे लोगों से दोस्ती नहीं करनी चाहिए क्योंकि हम जैसे लोगों के साथ रहते हैं एक दिन हम भी वैसे ही हो जाते हैं। इसलिए हमें हमेशा अच्छे लोगों से दोस्ती करनी चाहिए।

Read all Latest Post on कहानियाँ Stories in Hindi at Hindirasayan.com. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Title: effects of bad company moral stories in Hindi | In Category: कहानियाँ Stories
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Author at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: हिंदीरसायन.कॉम, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, हिंदीरसायन.कॉम के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उलंघन है। ऐसा करने वाला व्यक्ति व संस्था स्वयं कानूनी हर्ज़े - खर्चे का उत्तरदायी होगा।
queries in 0.190 seconds.