Home > 2018 > मई
foreigner lady offers water to a poor child

प्रेरक कथा: तो इसलिए हमेशा अच्छा करने के लिए बोला जाता हैं

एक महिला अपने परिवार के लिए रोजाना भोजन बनाती थी। साथ ही वह एक रोटी उसके घर से होकर गुजरने वाले किसी भी जरूरतमंद भूखे व्यक्ति के लिए बनाती थी।

मांगो मत, देने वाले को अपने हिसाब से देने दो

मांगो मत देने वाला अपनी मर्जी से देगा

एक महिला अपने बच्चे के साथ दुकान पर गयी और सामान खरीदने लगीं बच्चा बड़ी मासूमियत से अपनी माँ के पास खड़ा हो गया। बच्चे की मासूमियत देख दुकानदार ने

Father and Son

पापा बाइक नहीं दिला सकते तो क्यूँ मुझे इंजीनियर बनाने के सपने देखतें हैं

आज हम आपको एक बेटे और पिता के भावनाओ को लेकर कहानी सुनाने जा रहे हैं। भले कहानी आपको अच्छी लगे न लगे पर इस कहानी से आपको कुछ सीखने

Dr. Hariom Panwar Kavita Kargil Amar Shaheedo Ki Gatha

कारगिल शहीदों की अमर गाथा… : डॉ. हरिओम पंवार

मै केशव का पाञ्चजन्य हूँ गहन मौन मे खोया हूं, उन बेटो की याद कहानी लिखते-लिखते रोया हूं जिन माथे की कंकुम बिंदी वापस लौट नहीं पाई चुटकी, झुमके पायल ले गई कुर्वानी

god with white hair

जब भक्त के प्राण बचाने के लिए प्रभु को करने पड़े अपने बाल सफ़ेद

मानो तो भगवान ना मानो तो पत्थर हूँ, हिंदी के इस मुहावरे का ठीक मतलब इस कहानी से सिद्ध हो जाता हैं जो की आप नीचे पढ़ने जा रहे हैं.... एक

रोजी की कसम इतने की खरीद भी नहीं…

ये डायलॉग्स हर दुकानदार अक्सर अपने ग्राहकों से बोलता है

खरीदारी करते वक़्त अक्सर आपका पाला जरूर उस तरह के दुकानदारों से पड़ा होगा जो अपने सामान को बड़ी ही चालाकी से बढ़ा चढ़ा कर ग्राहकों को बेचने की पूरी

अगर मान ली ये बात तो जरूर मिलेगा ईश्वर का साथ

एक बार श्रीकृष्ण और अर्जुन वार्तालाप करते हुए नगर की ओर भ्रमण के लिए निकले। मार्ग में उन्हें एक ब्राह्मण भिक्षा मांगते हुए दिखाई पड़ा। निर्धन ब्राह्मण की दशा देखकर अर्जुन

देसी जुगाड़: जब गर्मी से बेहाल लोगों को मजबूरन ऐसे कदम उठाने पड़े

भीषण गर्मी इतनी बढ़ गई हैं जिसके चलते लोग काफी परेशान रहते हैं। लोग इस जानलेवा गर्मी से छुटकारा पाने के लिये नय-नय देसी जुगाड़ो का अविष्कार करते ही रहते