Saturday, 21 October, 2017
Home > आज का विचार > स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद ( swami vivekananada )

समस्त ब्रह्माण्ड हमारे इस शरीर के ही अंदर विदमान है|जबकि हम जीवन भर इधर उधर भटकते रहते है|सत्य बोलना,परोपकार करना,अच्छी सोच रखना बहुत बड़ा सुख है लेकिन हम सही जगह अपनी खुसिया ढूढ ही नहीं रहे है|सागर हमारे सामने है और हम हाथ में चम्मच लिए प्यासे खड़े है|केवल पैसा कमाना ही सुख नहीं है अछे कर्म करो अपने माता पिता की सेवा करो और हमेशा दुसरो के हित में सोचो फिर देखो जो आपको मिलेगा वो अतुलनीय होगा –स्वामी विवेकानंद

Title: swami vivekananada

मिली-जुली खबरें

Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *