Saturday, 19 August, 2017
Home > आज का विचार > ईर्ष्या

ईर्ष्या

ईर्ष्या ( jealousy )

ईर्ष्या तुलना है

  •  हमे तुलना करना सिखाया गया है यदि हम तुलना करना छोड़ देते है|
  • ,तो ईर्ष्या गायब हो जाती है|तब बस तुम जानते हो की तुम,तुम हो|
  • तुम कुछ और नहीं हो और कोई जरूरत भी नही है|
  • तुलना बहुत ही मुर्खता पूर्ण वृत्ति है|
  • प्रतेक व्यक्ति अनुपम और अतुलनिय है|
  • बार यह बात समझ में आ जाए तो ईर्ष्या गायबहो जाएगी |
  • तुम सिर्फ तुम हो,कोई भी ,कभी भी तुम्हारे जैसा नही हुआ और कोई भी तुम्हारे जैसा नही होगा|

Title: jealousy
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *