Sunday, 20 August, 2017

मन

मन ( heart )

मन  

रहिमन मनही लगाई के,

देखि  लेहु  किन  कोय|

नर को बस करिबो कहा,

नारायण बस होय||

मन को स्थिर करके

कोई  क्यों  नहीं देख लेता,

इस परम  सत्य  को की,

मनुष्य  को वश में  कर लेना

तो बात ही क्या,

नारायण भी वश में हो जाते है|

Title: heart
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *