Monday, 21 August, 2017
Home > आज का विचार > गलती को स्वीकारना

गलती को स्वीकारना

गलती को स्वीकारना ( accept your folt )

गलती को स्वीकारना

  • अपनी गलती स्वीकार कर लेने में लज्जा की कोई बात नहीं है।
  • इससे, दुसरे शब्दों में, यही प्रमाणित होता है कि।
  • बीते हुए कल की अपेक्षा आज आप अधिक बुद्धिमान हैं।

– अलेक्जेन्डर पोप

Title: accept your folt
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *