Wednesday, 18 October, 2017
Home > Swami vivekananada( स्वामी विवेकानंद)

स्वामी विवेकानंद

समस्त ब्रह्माण्ड हमारे इस शरीर के ही अंदर विदमान है|जबकि हम जीवन भर इधर उधर भटकते रहते है|सत्य बोलना,परोपकार करना,अच्छी सोच रखना बहुत बड़ा सुख है लेकिन हम सही जगह