Monday, 27 February, 2017
Home > son

सोमवार की व्रत कथा

व्रत कथा कथा के अनुसार   एक नगर में एक धनी व्यापारी रहता था। सबकुछ होने पर भी वह व्यापारी  बहुत दुखी था क्योंकि उस व्यापारी का कोई पुत्र नहीं था। दिन-रात उसे एक ही चिंता सताती रहती थी। उसकी मृत्यु के बाद उसके इतने बड़े व्यापार और धन-संपत्ति को कौन संभालेगा।पुत्र

Read More

माँ संतोषी की कथा तथा पूजा विधि

संतोषी माता को हिंदू धर्म में संतोष, शांति और वैभव की माता के रुप में पूजा जाता है संतोष हमारे जीवन में बहुत जरूरी है संतोष ना हो तो इंसान मानसिक और शारीरिक रूप से  बहुत  कमजोर हो जाता है  मान्यताओं के अनुसार माता संतोषी भगवान श्रीगणेश की पुत्री हैं

Read More

जाने 2016 में श्राद्ध की तिथि तथा श्राद्ध का महत्त्व और इसे कैसे किया जाता है

ऐसा माना जाता है की किसी मनुष्य के  ,मरने के बाद विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण ना किया जाए तो उसे मुक्ति नहीं मिलती और उसकी  आत्मा भूत के रूप में  भटकती रहती है। पितृ पक्ष  या आम भाषा में कडवे दिन हिन्दू धर्म में मृत्यु के बाद श्राद्ध करना बेहद जरूरी माना

Read More

तोते ने दिलाया हरिओम को इनाम

बहुत समय की बात है एक गाँव था अजब नगर वहा एक ठग रहता था|नाम था उसका नट्टू लाल उसने अपने तोते को बोलना सिखाया ,वह दो ही शब्द बोलता था ‘हा,अवश्य’ यह सुनकर  नट्टू लाल खुश हो गया उसने सोचा ,क्यों न इस तोते को बेचकर एक हजार स्वर्ण मुद्राए कमाई

Read More