Monday, 23 October, 2017
Home > raghunath

भगवान शिव तथा माता सती का अदभुत प्रेम

सती परम पवित्र हैं, इसलिए इन्हें छोड़ते भी नहीं बनता और प्रेम करने में बड़ा पाप है। प्रकट करके महादेवजी कुछ भी नहीं कहते, परन्तु उनके हृदय में बड़ा संताप