Wednesday, 16 August, 2017
Home > pooja

शनि जयंती : में करे ‘शनिदेव ’और ‘पितृदेव’ को खुश

कल है शनि जयंती शास्त्रों के अनुसार भगवान शनि का जन्म ज्येष्ठ महिने की अमावस्या को हुआ था,इसीलिए ज्येष्ठ महिने की अमावस्या को शनि जयंती के रूप में मनाई जाती

इसीलिए देवो पर नही चड़ते केतकी के फूल !

यह तो आप सभी जानते है की ब्रम्हा जी  इस श्रृष्टि के रचना कार माने जाते है पर ये बात भी सत्य है की उनकी पूजा मन्दिरों में नही की

शिवरात्रि का व्रत शिव की कृपा प्राप्त करने का सबसे सुगम साधन है!

शिव को प्रसन्न कर कोई भी व्यक्ति कठिन समय तथा संकटों से उबरकर सभी प्रकार के पारिवारिक एवं सांसारिक सुख आदि प्राप्त कर सकता है। महा शिवरात्रि का व्रत फाल्गुन

इस ज्योतिर्लिंग के स्थापना के पीछे कुंभकर्ण के पुत्र की है एक कथा

भीमशंकर महादेव काशीपुर में भगवान शिव का प्रसिद्ध मंदिर और तीर्थ स्थान है। यहां का शिवलिंग काफी मोटा है जिसके कारण इन्हें मोटेश्वर महादेव भी कहा जाता है। पुराणों में

अपने पूजा घर में भूल कर भी कभी न करे ये चीज़

पूजा तो बहुत लोग करते है यह एक जीवन की नियमित प्रक्रिया है और हमारे संस्कार भी भगवान की मूर्ति रखने और पूजा करने से घर में कभी किसी चीज

मकर संक्रांति आराधना एवं उपासना का पावन पर्व है

हमारे पवित्र पुराणों के अनुसार मकर संक्रांति का पर्व ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश, आदीशक्ति और सूर्य की आराधना एवं उपासना का पावन व्रत है, जो तन-मन-आत्मा को शक्ति प्रदान करता

माँ संतोषी की कथा तथा पूजा विधि

संतोषी माता को हिंदू धर्म में संतोष, शांति और वैभव की माता के रुप में पूजा जाता है संतोष हमारे जीवन में बहुत जरूरी है संतोष ना हो तो इंसान

भगवान सत्यनारायण कौन है उन्हें क्या प्रसाद चड़ता है तथा उनकी कथा क्या है आइए जाने

यह कथा भगवान विष्णु  के सत्य स्वरूप की सत्यनारायण व्रत कथा है। सत्यनारायण भगवान की कथा लोगो में बहुत प्रचलित है।  यह हिंदू धर्म में  सबसे प्रतिष्ठित व्रत कथा के

इसीलिए नही चड़ाई जाती है गणपति को तुलसी दल

माँ पार्वती तथा महादेव के पुत्र श्री गणेश के बारे में रोचक कथा वैसे तो  श्री गणेश का पूर्ण जीवन ही रोचक घटनाओं से भरा है भगवान गणेश  जी को