Home > hindi kahaniya

ईमानदारी का फल देर से ही सही, पर मिलता जरूर हैं।

अहमदाबाद में वासणा नामक एक इलाका है। वहाँ एक इंजीनियर रहता था, जो नहर का कार्यभार भी सँभालता था। वही आदेश देता था कि किस क्षेत्र में पानी देना है।

भौकने वाले भौकते है उनका काम है भौकना

एक बुजुर्ग थे रामनाथन जी  एक दिन वह टहलने निकले। सुबह सुबह टहलते टहलते उन्होंने ने देखा की एक गरीब सी फटे कपडे पहने महिला हाथ में बोरा लिए कचरा

error: Content is protected !!