Home > dosti

इस प्रेम के पर्व में जाने की क्या है ये प्रेम…..?

जरुरी नही की प्रेम किसी पर्व का मोहताज़ हो प्रेम तो हर पल हर समय हो सकता है। प्रेम करने का सही अर्थ है अपनी खुसी को दुसरे की खुसी