Tuesday, 17 October, 2017
Home > diya

शनि जयंती : में करे ‘शनिदेव ’और ‘पितृदेव’ को खुश

कल है शनि जयंती शास्त्रों के अनुसार भगवान शनि का जन्म ज्येष्ठ महिने की अमावस्या को हुआ था,इसीलिए ज्येष्ठ महिने की अमावस्या को शनि जयंती के रूप में मनाई जाती

अत्यधिक कष्ट भोगना पड़ रहा हो तो एक दिया जलाये शनिमहाराज़ को

हिन्दू धर्म में  दिये का एक अलग ही महत्व है हर हिन्दू परिवार में मंदिर स्थापित होता है और वहा हम रोज पूजा करते है और दिये को जला कर

इस मंदिर में माता की ज्योत जलती है पानी से

मालवा जिले की तहसील मुख्यालय नलखेड़ा से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर कालीसिंध नदी के किनारे प्राचीन गड़ियाघाट वाली माताजी का मंदिर स्थित है। इस मंदिर के पुजारी कहना

रात के समय इन कामो से रहे दूर वरना उठाना पड़ेगा भारी नुक्सान

हिन्दू धर्म के अनुसार शास्त्रों में कुछ ऐसे कामों के विषय में बताया गया हैं, जो रात के समय बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। यहाँ हम ऐसे कामों के बारे