Friday, 15 December, 2017
Home > कहानियां > सीलू की नादानी

सीलू की नादानी

सीलू की नादानी ( silu ki nadani )

एक लड़की थी सीलू  वह बगीचे में खेल रही थी तो अचानक उसकी नजर एक पेड़ पर पड़ी जहा एक पत्ते पर तितली का कोकून लगा था वह उसके पास गई तो वह हिल रहा था

butterfly

उसने सोचा यह क्या है  वह उसके करीब जा कर देखने लगी फिर अचानक उसमे से तितली का सर बाहर निकला यह देख कर वह चौक गई उसे लगा की तितली उसमे फस गई है और निकल नहीं पा  रही

watering-the-garden-jpg-dixie-allan-q2fmid-clipart

सीलू तितली को खूब देर तक देखती रही उसने देखा कि तितली कोकून  से बाहर निकलने के लिए बार बार कोशिश  कर रही थी|  पर वह निकल नहीं पा रही थी

सीलू से यह देखा नहीं गया और  उसको तितली पर दया आ गयी और उसने तितली की मदद करने की कोशिश की|

सीलू  ने  उस कोकून को तोड़ दिया और तितली को बाहर निकाल दिया| उसे लगा अब तितली आजाद हो जाएगी  लेकिन कुछ ही देर में तितली मर गयी|

_13711930500

सीलू को  यह समझ नहीं आ रहा था कि वह तितली कैसे मर गयी  और वह तितली को देख कर रोने लगी उसे वह बचाना चाहती थी पर वह मर गया इसका उसे बहुत दुःख हुआ

वह रोते –रोते  अपनी माँ के पास गई और सारी बात  बताई| माँ ने उसे कहा मत रो बेटा   यह तो प्रकृति का नियम है और कोकून  से बाहर आने के लिए तितली को खुद ही सब  करना पड़ता है उससे उसके पंखों और शरीर को मजबूती मिलती है| वह बहुत नाजुक होती है

तुमने तितली की मदद करके उसे खुद निकलने  का मौका नहीं दिया जिससे वह मर गई |

कहानी की सिख- कोई कार्य ऐसे होते है जिसे वो खुद ही कर सकते है जिनका वह कार्य है  बिना सोचे  समझे किसी की मदद करना भारी पड़ सकता है इसलिए सोच विचार कर हमे किसी के कार्य में हस्तक्षेप करना चाहिए

Title: silu ki nadani
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *