Wednesday, 23 August, 2017
Home > कहानियां > प्यार का दर्द

प्यार का दर्द

प्यार का दर्द ( pyar ka dard )

एक लड़की थी प्रिया वह  अंधी थी पर थी बहुत सुंदर और समझदार  वो  हमेशा इस सोच में डूबी रहती थी की  क्या कोई मुझे प्यार करेगा मुझे किसी का प्यार मिलेगा भी या नहीं  वहा  एक रवि नाम का   लड़का रहता था जो प्रिया को रोज देखा करता था एक बार वह  रास्ते में  चलते चलते अचानक गिर पडती  है  तो रवि की  नजर प्रिया  पर पडती है रवि दौड़ कर जाता है  प्रिया को सहारा देने  फिर  उसे लेकर उसके  घर की तरफ चल  पड़ता है चलते   चलते दोनों की  बहुत सी बातें होती है घर छोड़ते वक्त रवि प्रिया से कहता है क्या तुम्हारे जीवन में कोई है?

प्रिया  बोली मुझ जैसी अंधी लडकी के जीवन में कौन  होगा |रवि बोला ऐसा क्यों कहती हो अगर मैं तुम्हारी ज़िन्दगी का हिस्सा बनना चाहूँ तो

क्या तुम स्वीकार करोगी मैं तुम्हे बहुत प्यार दूंगा और बहुत प्यार से रखूँगा तुम्हारी हर विश पूरी करूँगा  किसी चीज़ की कमी नही होने दूंगा |मै तुम्हे रोज देखता हु पर तुमसे कहने की कभी हिम्मत नही हुई की में तुम्हे चाहता हु  |

946574_153736944797261_879169435_n

जिस बात को सोच सोच कर प्रिया परेसान होती थी वो दो लफ्ज़ समीर  के मुह  से सुन कर उसकी आँखे बरस पड़ी और कहने लगी की ये जानते हुए भी की मेरी आँखें नहीं हैं मै अंधी हु  फिर भी प्यार करना चाहते हो ?

रवि ने कहा – हाँ मैं तुम्हे  बहुत  चाहने लगा हूँ  मुझे कोई फर्क नही पड़ता तुम अंधी हो तो भी इस पर प्रिया  रोने लगी और बोली काश  ऐसा होता की में  अगर  तुम्हे देख पाती तो तुम्ही से शादी करती रवि कहता है तुम जैसी भी हो मुझे स्वीकार हो में तुम्हे धोका नही दूंगा अंतिम तक तुम्हारा साथ दूंगा  तुम्हारे अलावा मेरे जीवन में कोई दूसरा नही आएगा

कुछ साल बीत गए|उससे प्रिया  का दुःख देखा नही गया उसने अपनी आंखे प्रिया को देने का मन बना लिया

रवि ने एक डाक्टर  को दिखाया और प्रिया  की आँखों का ऑपरेशन कराया पर प्रिया को नही बताया की ये सब वह खुद कर रहा है ऑपरेशन कामयाब हुआ।

meri-ankhe

डॉक्टर जब उसकी आँखों से पट्टी उतारने लगते है तो प्रिया  कहती है की सबसे पहले मुझे उस  इंसान का  चेहरा दिखाइये जिसकी वजह से मै अब दुनिया को देखने जा रही हु  किसने मुझपर एहसान किया है डॉक्टर ने रवि  को प्रिया  के सामने खड़ा करवा दिया और प्रिया  की आँखों की पट्टी उतारते है प्रिया देखती है की रवि  भी अँधा है ओर कहती है तुमने कभी बताया नही की तुम भी अंधे हो ,

रवि  कहता है में वही हु रवि तुम्हारा प्रेमी   क्या तुम मुझसे शादी करोगी ? प्रिया कहती है मैंने मेरी ज़िन्दगी अँधेरे में गुजारी है मुझे पता है अँधापन कैसा होता है मै फिर से मेरी ज़िन्दगी को अंधेपन में नहीं डाल सकती एक अंधे से में कैसे शादी करलू  मै तुमसे शादी नहीं कर सकती| यह सुनते ही रवि का दिल मुह को आ गया और  उसके आसू बेह कर उसके गालो से टपकने लगते है

वह बस इतना कह कर चला जाता है की  मतलब की दुनिया है तुम भी मतलबी निकली  बस एक बात मेरी याद रखना जैसे तैसे में जी लूँगा बस तुम अपना और मेरी आँखों का ख्याल रखना |

कहानी की सिख –

किसी से इतना भी प्यार न करो की वो मतलबी बन जाए

Title: pyar ka dard

मिली-जुली खबरें

Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

3 thoughts on “प्यार का दर्द

  1. प्यार का दर्द है, मीठा मीठा प्यारा प्यारा,
    बहुत अच्छी कहानी लिखी है, जिसने भी लिखी, वाकई कहानी दिल को छु लेती है। आपके लेखन में कुछ बात है जो सीधे दिल तक पहुंच जाता है आप ऐसे ही लिखते रहें। आपके लेखन में बहुत संभावनाएं हैं, एक दिन सच में आप बहुत बड़े साहित्यकार हो सकते हैं। आपका पोर्टल बहुत आकर्षक और तथ्यपरक जानकारी देता है। मेरी कामना है कि हिन्दी रसायन ऐसे ही दिनोंदिन तरक्की करता रहे और आपके द्वारा दी गई नई नई जानकारियों से पाठकगण लाभ उठाते रहें।
    मेरा अनुरोध है कि आप हिन्दी रसायन में कहानियों, कविताओं के साथ गजल और उपन्यास के अंश देना भी शुरू करें। कई गजलकारों की महत्वपूर्ण रचनाओं से आप पाठकों को अवगत कराएंगे तो बहुत अच्छा लगेगा।

  2. आप की लिखी कहानी पढ़ी वाकई दिल को छु लेने वाली कहानी है। आपके लेखन में कुछ बात है जो सीधे दिल तक पहुंचता है। आपने जो कहानी की सीख लिखी है उससे पढ़कर एक शेर याद आता है।

    पूजोगे तो पत्थर भी देवता हो जाएगा
    मत चाह उसे इतना वो वेबफा हो जाएगा
    हम तो दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है
    जहां से भी गुजरेंगे रास्ता हो जाएगा

    हिंदी रसायन वाकई एक ज्ञानवर्धक पोर्टल है। आपके द्वारा विभिन्न विषयों पर जो लेख लिखे गए हैं उससे पाठकों को समय_समय पर अलग अलग तरह की जानकारियां प्राप्त होती हैं। मेरा अ नुरोध है कि आपके कहानी के साथ साथ कविताओं और गजलों के कॉलम भी शुरू करें। जिससे पाठक ज्यादा से ज्यादा आपकी वेबसाइट की ओर आकृषित हो सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *