Thursday, 17 August, 2017
Home > कहानियां > पल पल बदलता प्यार

पल पल बदलता प्यार

पल पल बदलता प्यार ( pal pal badalta payar hindi love story )

एक गांव था राजापुर वहा एक लड़की रहती थी स्नेहा बात उन दिनों की है ।जब वह कॉलेज में पढ़ती थी और पढाई में बहुत ही तेज थी। पर एक दिन एक लड़का संतोष उसकी जिंदगी मे आ गया उस लड़के ने एक दिन कॉलेज में  स्नेहा से  कहा कि वो उससे  बहुत प्यार करता है ।और स्नेहा उसे बहुत पसंद है पर स्नेहा उस दिन कुछ बोले बिना वहा से आ गई  ।फिर दुसरे दिन भी संतोष ने फिर कोशिश की पर स्नेहा ने साफ मना कर दिया  संतोष को यह सुनकर बहुत बुरा लगा।

फिर एक दिन संतोष के बेस्ट फ्रेंड ने जा कर स्नेहा से कहा की संतोष तुमसे  बहुत प्यार करता है ।वो हर दिन बस तुम्हारे बारे में ही सोचता है ।वो तुम्हे याद करके बहुत रोता है उसने अपने हाथ में काटकर तुम्हारा नाम लिखा है ।यह सुनते ही स्नेहा भाग के बिना किसी की परवाह किए उसके पास चली गयी और उसे कह दिया की तुम ऐसा क्यों कर रहे हो में भी तुमसे बहुत प्यार करने लगी हूँ ।अब ऐसा कभी मत करना तुम  यह सब सुनते ही संतोष बहुत खुश हुआ और उसे खुश देख कर स्नेहा बहुत खुश हुई क्यूंकी अब स्नेहा भी उससे बहुत प्यार करने लगी थी।

painful

स्नेहा पढाई में ध्यान दे रही थी  इसलिए संतोष से बहुत कम बात किया करती थी। ऐसे ही करते करते उनका रिश्ता आगे बढ़ता गया वह हर रोज फोन पर बात करने लगे स्नेहा  भी अब संतोष को बहुत प्यार करने लगी थी। वह उसकी खुशी के लिए कुछ भी कर सकती थी और संतोष भी अब यह बात अच्छी तरह से जानता था ।इसलिए संतोष ने  भी स्नेहा को ये यकीन दिलाया की वह भी स्नेहा के लिए कुछ भी कर सकता है।स्नेहा उसकी हर ज़रूरत को पूरा करती थी उसके लिए स्नेहा ने कभी अपने आप की भी परवाह नहीं की ।वो भी शायद स्नेहा से प्यार करता था ऐसे ही 4  साल तक चलता रहा पर एक दिन संतोष जॉब के लिए बाहर गया ।वहां पर शायद उसे कोई और पसंद आ गयी उस दिन के बाद सबकुछ बदलने लगा। न तो वो फोन करता स्नेहा को और जब स्नेहा  फोन करती तो भी ठीक से बात नही करता था।

एक दिन स्नेहा  बहुत परेशान हुई और उसने संतोष से फोन पर कहा कि मुझे बताओ तुम मेरे साथ ऐसा क्यूँ कर रहे हो ।तो संतोष ने कोई जबाब नही दिया अक्सर बस फोन पर वो कुछ न कुछ हर बात पर स्नेहा से झूठ बोलने लगा ।फिर एक दिन स्नेहा  ने  उसे मिलने के लिए बुलाया की एक बार मिलो तो क्या हुआ है बताओ  तो और  वह मिलने आया भी पर उसने स्नेहा को बड़ी आसानी से कह दिया कि वो किसी और  से प्यार करता है।

बस यह सुनकर स्नेहा के दिल में मानो लाखो कांटे आके चुभ गए हो वो सुन्न सी पड  गई।जिसे उसने अपना हमसफर माना वो किसी और के साथ प्यार करने लगा उसने स्नेहा के बारे में एक बार भी नही सोचा स्नेहा टूट गयी, वही बिखर गयी और संतोष को कोई फ़र्क़ ही नही पड़ा स्नेहा के लिए वो  जिंदगी से बढ़कर बन गया था।वहा से जब संतोष जाने लगा तो बस स्नेहा ने इतना कहा की  चाहे तुम मुझे भूल जाओ  पर मैं आज भी सिर्फ़ ओर सिर्फ़ तुम्ही से प्यार करती हूँ।

a-girl-sitting-alone-on-a-sandy-beach-at-sunset-694x417

कहानी की सिख – दोस्तों ऐसा भी कोई प्यार है किसी को हाथ काट के उसके दिल में प्यार जगाओ  और प्यार के वादे करो यकींन  दिलाओ की आप उनसे कितना प्यार करते है ।उनके लिए कुछ भी कर सकते है  फिर 3,4 साल बाद उससे मन भर जाये तो किसी और से प्यार करने चल्दो । आप चाहे लडकी हो या लड़का कभी भी किसी के जज्बातों से न खेले सच्चा प्यार किस्मत वालो को मिलता है। उसकी कदर करना सीखे  प्यार तो  वो नाजुक से धागे है। जो जल्दी टूट भी जाते है पर अगर इन्हें आपसी समझ और प्यार से संभालोगे तो यह मजबूत डोरी में बदल जाते है ।किसी को आप प्यार करते हो तो उनके लिए खुदको समर्पित करदो।

 

Title: pal pal badalta payar hindi love story
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *