Tuesday, 12 December, 2017
Home > कहानियां > भौकने वाले भौकते है उनका काम है भौकना

भौकने वाले भौकते है उनका काम है भौकना

भौकने वाले भौकते है उनका काम है  भौकना ( bhaukne wale bhaukte hai unka kaam hai bhaukna in story )

एक बुजुर्ग थे रामनाथन जी  एक दिन वह टहलने निकले। सुबह सुबह टहलते टहलते उन्होंने ने देखा की एक गरीब सी फटे कपडे पहने महिला हाथ में बोरा लिए कचरा  बिनते  हुये वहा चल रही है  और गली के आवारा कुत्ते उस पर भौक रहे है ।और गली के छिछोरे लड़के भी उसे  छेड़ रहे थे।

hqdefault

रामनाथन सोचने लगे की यह कुछ अच्छा काम क्यों नही करती है क्या इसके घर वाले कुछ कहते नही होगे।

रामनाथन जी ने उस महिला की ओर गोर किया की वो भौकते हुये कुत्तो को देखकर और उन छिछोरे लडको बोलते देख कर भी उस महिला के चेहरे पर किसी भी प्रकार का डर नही था ना ही उस महिला का उन कुत्तो पर कोई ध्यान था वह तो बस अपना कचरा उठाने में वयस्त थी वो महिला वहा से दूसरी जगह गई  दूसरी जगह के कुत्ते भी उसे देखकर भौकने लगे

dogs-in-street-awara-kutte

वहा पर भी उस महिला ने कुत्तो की तरफ ध्यान नही दिया और अपना कचरा बीनने का काम करती रही उस महिला ने कचरा उठाकर रामनाथन के सामने बेच भी दिया और रूपये कमा भी लिये और भौकने वाले कुत्ते  भौकते रह गए।

img_2342-520x390

रामनाथन जी ने महिला से पूछा की बेटा तुम जो यह काम करती हो तुम्हे डर नही लगता इन कुत्तो और आवारा लडको से तुम कुछ दूसरा काम क्यों नही करती हो तुम्हारे घर परिवार वाले कुछ कहते नही तुम्हे ?

वह कचरे वाली बोली बाबूजी इन्सान की एक यही आदत सभी समस्याओ की जड़ हैं ।हमारी सोच येही है की लोग क्या कहेगे, लोग क्या सोचेगे, उनको क्या लगेगा इसी सोच की वजह से हम कुछ भी खुलकर नहीं कर पाते क्योकी हम कोई भी काम करने से पहले दस बार लोगो  के बारे मैं सोचते हैं।

किसी समाज के भेडिये के आगे अपनी अस्मिता लुटाने या भीख मांगने से अच्छा येही काम करना ठीक समझती हूँ में मुझे कोई फरक नही पड़ता की कोई क्या कहेगा भौकने वाले भौकते है उनका काम है  भौकना।

यह बोलकर वो महिला चल दी।

उस कचरे वाली का एक टुक जबाब सुनकर रामनाथन दंग रह गए और कुछ भी बोल नही पाए।

कहानी की सिख –  क्या  खूब जबाब दिया उस महिला ने  यहीं सोच हम हमारी जिंदगी में अपनाये तो हम कभी पिछे नहीं रहेगे और हम अपना काम लोगो की सोच को ध्यान में रखकर नहीं करेगे तो ही हम अपने काम को पुरे कर पाएगे  क्योकी हम कोई भी काम करने से पहले लोगे के बारे मैं सोचते हैं रिश्तेदार, पडोसी, मेरे बारेमे क्या सोचेगे इस डर की वजह से हम कोई भी काम करने से पीछे हट जाते है और जिंदगी भर पछतावा रह जाता है की मेने अपने मनकी क्यों नही की अगर  जिंदगी में कुछ बड़ा काम करना हो तो लोगो के बारे मैं सोचना छोड़ देना होगा तभी सफलता हासिल हो सकती है।

Title: bhaukne wale bhaukte hai unka kaam hai bhaukna in story
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

2 thoughts on “भौकने वाले भौकते है उनका काम है भौकना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *