Saturday, 19 August, 2017
Home > धर्म कर्म > 70 साल बाद कार्तिक पूर्णिमा का महाफलदाई योग

70 साल बाद कार्तिक पूर्णिमा का महाफलदाई योग

70 साल बाद कार्तिक पूर्णिमा का महाफलदाई योग ( this nature will be on kartik purnima the biggest moon will appear 70 years later in religion )

चन्द्रमा का  पूर्ण अवस्था में आना पूर्णिमा कहलाता है।इस  दिन चन्द्रमा से जो किरणें निकलती है इसलिए इस दिन कुछ देर ही सही चन्द्रमा को देखना शुभ माना जाता है इस बार पूर्णिमा 14/11/2016 सोमवार को पड़ रहा है तो आइए जाने कार्तिक पूर्णिमा के बारे में

क्या करना चाहिए इस दिन

इस दिन पूरे दिन उपवास रखकर एक समय भोजन करना चाहिए।आपकी इच्छा अनुसार जो हो सके उसका दान दे जैसे दूध, फल नारियल,आदि कहा जाता है की इस दिन ब्राहम्ण, बहन, बुआ को दान करने से अक्षय पुण्य मिलता है

इस पूर्णिमा में नदी या अपने स्नान करने वाले जल में थोड़ा सा गंगा जल मिलाकर स्नान करना चाहिए उसके बाद भगवान विष्णु की अर्चना करना चाहिए।

the-unique-charisma-of-this-nature-will-be-on-kartik-purnima-the-biggest-moon-will-appear-70-years-later

क्या है लाभ कार्तिक पूर्णिमा के

पुर्णिमा का दिन मां लक्ष्मी को बहुत ही पसंद होता है। इस दिन मॉ लक्ष्मी की आराधना करने से जीवन में खुशिया भर जाती है तथा पैसो की कमी नहीं रहती है।

पूर्णिमा को मॉ लक्ष्मी का पीपल के वृक्ष पर निवास रहता है। इस दिन जो भी जातक पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाता है उस पर मां लक्ष्मी प्रसन्नता बनी रहती है।

कार्तिक पूर्णिमा में गरीबों को चावल का दान करने से चन्द्र ग्रह शुभ फल देते  है। इस दिन शिवलिंग पर कच्चा दूध,व गंगाजल मिलकार चढ़ाने से भगवान शिव प्रसन्न होते है। कार्तिक पूर्णिमा को घर के मुख्यद्वार पर आम के पत्तों से बनाया हुआ तोरण लगाना अति शुभ माना जाता है ।

यदि आप विवाहित है तो पूर्णिमा के दिन भूलकर भी अपनी पत्नी या अन्य किसी से शारीरिक सम्बन्ध न बनाए  वरना चन्द्रमा के दुष्प्रभाव देंगे आपको ।

आज के दिन खीर में गंगा जल मिलाकर मां लक्ष्मी को भोग लगाकर प्रसाद बांटे। कार्तिक पूर्णिमा के दिन व्रत, स्नान-दान करने से बहुत ही ज्यादा पुण्य मिलता है

 

img_1339

Title: this nature will be on kartik purnima the biggest moon will appear 70 years later in religion

मिली-जुली खबरें

Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *