Friday, 15 December, 2017
Home > धर्म कर्म > मां विंध्यवासिनी का खत्री पहाड़

मां विंध्यवासिनी का खत्री पहाड़

मां विंध्यवासिनी का खत्री पहाड़ ( maa vindhayvasini khatri rock )

उत्तरप्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड के बांदा जनपद के एक गांव में ऐसा भी पहाड़ है जिसे देवी ‘विंध्यवासिनी’ द्वारा शापित पहाड़ माना जाता है। यहा की मान्यता है कि इस पहाड़ में देवी का भार उठाने की क्षमता नही थी  तो देवीजी का भार सहन करने में असमर्थता जताने पर उसे ‘कोढ़ी’ होने का शाप दिया गया था। तभी से इस पहाड़ का पत्थर सफेद है बुंदेलखंड के बांदा जनपद में केन नदी के तट पर बसे शेरपुर स्योढ़ा गांव के खत्री पहाड़ की चोटी पर मां विंध्यवासिनी का मंदिर है। आम दिनों की अपेक्षा यहां नवरात्र में बड़ा मेला लगता है।

देवी के भक्त आते है यहा

देवी मां के भक्त नवमी तिथि को लाखों की तादाद में हाजिर होकर मां का आशीर्वाद लेते हैं। यहाँ की मान्यता है कि पहाड़ के उद्धार के लिए मिर्जापुर के विंध्याचल पहाड़ से मां विंध्यवासिनी नवरात्र की नवमी तिथि को यहां आती हैं और भक्तों को दर्शन देती हैं।

मां विंध्यवासिनी के बारे में

यहां एक मान्यता प्रचलित है कि मिर्जापुर में विराजमान होने से पूर्व देवी मां ने खत्री पहाड़ को चुना था। लेकिन इस पहाड़ ने देवी मां का भार सहन करने में असमर्थता जाहिर की थी। जिससे नाराज होकर मां पहाड़ को ‘कोढ़ी’ होने का शाप देकर मिर्जापुर चली गई। अपने उद्धार के लिए पहाड़ के प्रार्थना करने पर देवी मां ने नवरात्र की नवमी तिथि को पहाड़ पर आने का वचन दिया था। तभी से यहां अष्टमी की मध्यरात्रि से भारी भक्तों का मेला लगने लगा है।

Title: maa vindhayvasini khatri rock
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *