Thursday, 14 December, 2017
Home > कविताएँ > मधुर मधु-सौरभ जगत्

मधुर मधु-सौरभ जगत्

मधुर मधु-सौरभ जगत् ( madhur madhu )

मधुर मधु-सौरभ जगत् को

मधुर मधु-सौरभ जगत् को स्वप्न में बेसुध बनाता
वात विहगों के विपिन के गीत आता गुनगुनाता !

मैं पथिक हूँ श्रांत, कोई पथ प्रदर्शक भी न मेरा !
चाहता अब प्राण अलसित शून्य में लेना बसेरा !

-महादेवी वर्मा

Title: madhur madhu
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *