Wednesday, 18 October, 2017
Home > कविताएँ > तितली से

तितली से

तितली से ( butterfly )

मेघ बरसने वाला है
मेरी खिड़की में आ जा तितली।

बाहर जब पर होंगे गीले,
धुल जाएँगे रंग सजीले,

झड़ जाएगा फूल, न तुझको
बचा सकेगा छोटी तितली,

खिड़की में तू आ जा तितली!
नन्हे तुझे पकड़ पाएगा,

डिब्बी में रख ले जाएगा,
फिर किताब में चिपकाएगा

मर जाएगी तब तू तितली,
खिड़की में तू छिप जा तितली।

-महा देवी  वर्मा

Title: butterfly
Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *