Friday, 18 August, 2017
Home > स्‍वास्‍थ्‍य टिप्‍स > मच्छरों से होने वाले रोग- डेंगू, मलेरिया

मच्छरों से होने वाले रोग- डेंगू, मलेरिया

मच्छरों से होने वाले रोग- डेंगू, मलेरिया ( %e0%a4%ae%e0%a4%9a%e0%a5%8d%e0%a4%9b%e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%82 %e0%a4%b8%e0%a5%87 %e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%a8%e0%a5%87 %e0%a4%b5%e0%a4%be%e0%a4%b2%e0%a5%87 %e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%97 )

बरसात का मौसम अपने साथ कई बीमारियां लाता है| बारिश की वजह से घरो के आस- पास पानी इकट्ठा हो जाता है और उसमें मच्छर व कीड़े- मकोड़े पनपने लगते है| इनसे कई बीमारियां होती हैं जैसे की डेंगू, मलेरिया, चिकुनगुनिया, हैजा, डायरिया, पीलिया आदि| बरसात के मौसम के आते ही मच्छरों से होने वाले रोग बढ़ने लगते है| आइये जानते है इन्हीं रोगों के बारे में| जैसे डेंगू तथा मलेरिया|

डेंगू
डेंगू मच्छर बरसात के मौसम में पनपने वाला मच्छर है| इसका वायरस DENV-1, DENV-2, DENV-3, DENV-4 वायरस होता है| इसके काटे जाने पर तेज बुखार आता है| इसे हड्डी तोड़ बुखार भी कंहा जाता है| डेंगू दिन में काटने वाले मादा मच्छर एडीज एजिप्टी से फैलता है|

कारण
1. डेंगू साफ़ पानी में पनपता है |
2. पानी की टंकियो ,जानवरों के पीने की होद , कूलर में इकट्ठा पानी में ,ट्यूब तथा टायरो में इकट्ठा पानी में |
3. गमलो में और फटे मटके में पनपता है

डेंगू के लक्षण
1. सिर ,कमर और जोड़ो में दर्द ,थकावट , कमजोरी तथा हल्की खाँसी रहती है|
2. गले में खराश ,उलटी और शरीर पर लाल दाने होते है|
3. नांक, दांत और मसूडो से खून आता है|
4. खून की उलटी और मल से खून आना |
5. बच्चो और बुजुर्गो के लिए ज्यादा खतरनाक होता है |
6. तेज बुखार के साथ ठण्ड लगती है |
7. शरीर पर लाल दाने हो जाते है|
8. यह बुखार 1-5 दिन तक रहता है|
9. यह बुखार मरीज की जान भी ले लेता है|
10. शरीर की प्लेटलेट्स को कम कर देता है|

सावधानिया
1. जगह -जगह पर पानी न भरने दे या जंहा पानी भरे वंहा पर मिटटी का तेल या पेट्रोल की कुछ बुँदे रोजाना डाले |
2. विटामिन की अधिकता वाली चींजे खाए , जैंसे -आंवला , संतरा |
3. पानी की टंकियो , कूलर ,ट्यूब तथा टायरो में पानी इकट्ठा न होने दे |
4. कूलर का पानी प्रतिदिन बदले |
5. पानी की टंकियो को सही से बंद करे |
6. खाने में ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करे ,दो से तीन चुटकी हल्दी पानी के साथ ले |
7. हल्दी को सुबह आधा चम्मच पानी के साथ या रात को दूध के साथ सेवन करे |
8. तुलसी के पत्तो को शहद के साथ पानी में उबाल कर पीये |
9. यदि ज्यादा नजला ,जुकाम हो तो रात को दूध न पीये |
10. नाक के अन्दर सरसों का तेल लगाये| तेल की चिकनाहट के कारण बाहर से आने वाले बैक्टीरिया को नाक के अन्दर जाने से रोकती है
11. यदि बार -बार उल्टी हो रही है तो सेब के रस में नींबू मिलाकर ले |
12. स्थिति ख़राब हो तो गेंहू के जवारे के रस निकालकर दिन में 2-3 बार ले
13. गिलोय के बेल की डंडी का काढ़ा बनाकर दे |
14. खराब राहू तथा शनि वाले व्यक्ति को मच्छर से काटे जाने की समस्या होती है |

mosquito

मलेरिया बीमारी मादा एनोफ़ेलीज़ मच्छर के काटे जाने से होता है | यह मच्छर भी बरसात के मौसम में ही पनपता है मलेरिया रोग परजीवी प्लाजमोडियम से फैलने वाला रोग है |
लक्षण
1. शरीर में खून की कमी होना |
2. शुरुवात में ध्यान न देंने पर इस रोग का प्रभाव लीवर पर भी पढ सकता है |
3. सिर,दर्द और जी मिचलाना
4. कंपकपी के साथ बुखार आना
5. शरीर का तापमान 101-105 डिग्री तक पहुँच जाता है |
6. संक्रमित मच्छरके काटने से 10-12दिन बाद लक्षण दिखाई देते है |
7. उल्टी होना , पसीने आने पर बुखार का कम होने पर शरीर में कमजोरी होना |
8. यह रोग मस्तिष्क को गंभीर नुकसान पंहुचता है |
9. बच्चो में दिमागी बुखार होने पर दिमाग में खून की आपूर्ति कम हो जाती है
उपाय
1. प्याज के रस में काली मिर्च मिलाकर सुबह शाम पिलाये |
2. तुलसी के 15 पत्ते , 10 काली मिर्च और 2 चम्मच चीनी का काढ़ा बनाकर दे | एक कप पानी में दिन में 3 बार दे |
3. 5 चम्मच सेंधा नमक को भूरा होने तक भूने ,1 चम्मच नमक को 1 गिलास गर्म पानी में मिला कर दे बुखार आने पर पीये |
4. लहसुन की 3-4 कलिया घी में मिलाकर खाये|
5. नीम या सत्व पर्वा पेड़ की छाल का काढ़ा बनाकर दे | 10 ग्राम नीम की छाल को आधा गिलास पानी में तब तक उबाले जब तक आधा न रह जाए| छान कर गुनगुना ही पीये|
सावधानियाँ
1. टंकी ,कूलर ,मटके को खाली करके सुखाये |
2. बरसात के दिनों में कंही भी पानी इकट्ठा न होने दे|
3. हफ्ते में एक बार पानी की टंकी, मटके तथा कूलर की सफाई जरुर करे |
4. पानी ज्यादातर उबाल कर पीये ,पत्तियों वाली सब्जियां न खाए

Title: %e0%a4%ae%e0%a4%9a%e0%a5%8d%e0%a4%9b%e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%82 %e0%a4%b8%e0%a5%87 %e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%a8%e0%a5%87 %e0%a4%b5%e0%a4%be%e0%a4%b2%e0%a5%87 %e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%97

मिली-जुली खबरें

Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *