Sunday, 26 March, 2017
Home > ज्योतिष

सूर्य एवं शनि के बिच है ये सम्बंध

नवग्रह मंडल में भी कुछ ग्रहों में आपस में पिता-पुत्र संबंध हैं जो कि व्यक्ति की जन्मपत्रिका को भी प्रभावित करते हैं। यह पिता-पुत्र सूर्य एवं शनि हैं। इनके वैर को इस प्रकार समझा जा सकता है कि सूर्य जहां मेष राशि में उच्च के होते हैं वहीं शनि मेष

Read More

चन्द्रमा को करे प्रसन्न उनके मन्त्रो द्वारा

ज्योतिष कहते है चतुर्थी तिथि को चंद्रमां को अर्घ प्रदान करने का विशेष महत्तव होता है। इस मंत्र के साथ चंद्रमां को अर्घ प्रदान करना चाहिए क्षीरोदार्णवसम्भूत अत्रिगोत्रसमुद् भव । गृहाणाध्र्यं शशांकेदं रोहिण्य सहितो मम ।। चंद्रमा से शुभ फल प्राप्त करने के लिए इस दिन खीर जरूर खाना चाहिए। यदि कुंडली में

Read More

ये है वो ग्रह और उनके मंत्र !

मनुष्य भी, ग्रह या उसके स्वामी देवता के साथ संयम के माध्यम से किसी विशिष्ट ग्रह की चुनिन्दा ऊर्जा के साथ खुद की अनुकूलता बिठाने में सक्षम हैं। विशिष्ट देवताओं की पूजा का प्रभाव उनकी सम्बंधित ऊर्जा के माध्यम से पूजा करने वाले व्यक्ति के लिए तदनुसार फलता है, विशेष

Read More

बेलपत्र और शिव की महिमा

बेल के पेड़ की पत्तियों को बेलपत्र कहते हैं। बेलपत्र में तीन पत्तियां एक साथ जुड़ी होती हैं लेकिन इन्हें एक ही पत्ती मानते हैं। भगवान शिव की पूजा में बेलपत्र प्रयोग होते हैं और इनके बिना शिव की उपासना सम्पूर्ण नहीं होती। ज्योतिष के जानकारों की मानें तो भगवान

Read More

रुद्राक्ष क्या है ?और इसका महत्व क्या है जाने !

रुद्राक्ष  एक प्रकार का दाना है ।हिन्दु धर्म मे रुद्राक्ष के पेड़ और रुद्राक्षदाना दोनो का बराबर महत्व है। हिन्दु धर्म मे रुद्राक्ष को बहुत ही पवित्र स्थान दिया है ये भी कहाँ गया है की रुद्राक्ष भगवान शिव ही है। और रुद्राक्ष दाना भगवान महादेव जी के प्रिये आभूषण

Read More

शंख दैवीय के साथ-साथ मायावी भी होते हैं

प्राचीन  समस्य से ही शंख को देवताओं से जोडा जाता है, हिन्दू धर्म में शंख को बहुत ही शुभ माना गया है। इसका कारण यह है कि माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु दोनों ही अपने हाथों में शंख धारण करते हैं। इसलिए एक आम धारणा है कि, जिस घर में

Read More

भगवान गणेश की पूजा और दूर्वा का महत्व

हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार भगवान गणेश का एक रूप धूम्रकेतु है कहा जाता है ।भगवान गणेश के इसरूप की पूजा करने से मनोकामना पूर्ण हो सकती है इसलिए बड़ी आस्था से भगवान गणेश की पूजा की जाती है। भगवान गणेश का दूसरा रूप है ।जिसमे गणेश जी हाथ में अंकुश,

Read More

अंगो में खुजली होने का क्या मतलब हो सकता है जाने

वैसे तो खुजली शरीर में पीड़ा का कारण बन सकती है पर कुछ खुजली ऐसी होती है जो कुछ फायदे या नुक्सान का संकेत देती है लेक‌िन समान्य स्‍थ‌ित‌ियों में क‌िसी अंग के खुजाने का मतलब भव‌िष्य में होने वाली घटनाओं से भी माना गया है।तो चलिए आज हम आपको

Read More

गुरु ग्रह का कमजोर होना करता है धन की कमी जानिए कैसे

ज्योतिष के अनुसार गुरुवार को गुरु ग्रह को कमजोर किए जाने वाले काम करने से धन की वृद्धि रुक जाती है। धन लाभ की जो भी स्थितियां बन रही हों। उन सभी में रुकावट आने लगती है। बृहस्पति का प्रभाव- जिस प्रकार से बृहस्पति का प्रभाव शरीर पर रहता है। उसी प्रकार

Read More

विष्णु पुराण से जाने महिलाओं के चरित्र और भाग्‍य के बारे में

विष्णु पुराण में भगवान विष्णु ने महिलाओं से सम्बंधित विशेषता के बारे में यहाँ बताया है ।की उनके किस गुण का क्या महत्व है।यहाँ महिलाओं के चरित्र और भाग्‍य के बारे में बतलाया है।तो आइए जानते है क्‍या है ये विशेषताएं नीचे स्लाइड में पढ़े।

Read More