Monday, 23 October, 2017
Home > खेत खलियान > फूलो में राजा गुलाब की खेती का तरीका सीखे

फूलो में राजा गुलाब की खेती का तरीका सीखे

फूलो में राजा गुलाब की खेती का तरीका सीखे ( rose farming )

फुल किसे नहीं पसंद होते ख़ास कर फूलो का राजा गुलाब न केवल बच्चो को बल्कि बुढो वयस्कों हर उम्र के लोगो को अपनी ओर आकर्षित करते है|तो जाने की इन्हें कब ओर कैसे लगाए।

किसान भाई इन्हें लगा कर काफी पैसा कमा   सकते है:

गुलाब की खेती करके किसान कमा सकते हैं। मार्केट में इनकी डिमांड बहुत है फूलों की बढ़ती मांग  होने से इनकी बिक्री की कोई समस्या नहीं है। जैसे फलों का राजा आम है तो फूलों की बेगम गुलाब है। गुलाब का रंग व सुगंध सबके मन को अपनी ओर खीच ही  लेते हैं। गुलाब के फूलों से गुलकंद, गुलाब जल, तेल, इत्र, जैम, जैली  शर्बत आदि बनाए जाते हैं।तथा  गुलाब के गुलदस्ते बड़े पसंद किए जाते हैं। नई नई तकनीके अपना कर गुलाबो की पैदावार बढ़ाया जा सकता है|

गुलाब के निम्न प्रकार होते है जिनमे से है

  • मूलवृंत
  • रोजा इंडिका
  • वर्षोनिया
  • ओडारोटा
  • रोजा मल्टीफ्लोरा

तो जानिए इन्हें कैसे भूमि पर तथा कौन से समय पर लगाए:

दोमट मिट्टी गुलाब के लिए उपयुक्त रहती है। गुलाब के लिए हल्का  ठंडा दिन का तापमान  वाला मौसम उपयुक्त है। गुलाब को लगाने का समय  सितंबर माह  से  अक्टूबर तक सही होता  है। पौधे लगाने से एक माह पूर्व दो से तीन फुट की दूरी पर दो से ढाई फुट गहरे गड्ढे बनाये | गड्ढे में गोबर की खाद व क्लोरोपाइरीफोस मिलाकर गड्ढा भरकर पानी को छोड़ दे खेत में  ।

अब जाने गुलाब के पौधे तैयार करना कैसे है:

यदि आप कलमी पौधे लगाना चाहते है तो मूलवृंत रोजा इंडिका, वर्षोनिया, ओडारोटा या रोजा मल्टीफ्लोरा से कलम लेकर मध्यम सितंबर से मध्य अक्टूबर तक लगा दें। इन कलमों पर  जनवरी-फरवरी में उन्नत किस्म के पौधे से आंख लेकर चढ़ा देनी चाहिए। आंख चढ़ाने का काम मार्च तक भी कर सकते हैं।

गुलाब के पौधे  पर कोनसे खाद व उर्वरक  डाले:

गोबर खाद, अधिक मात्रा में तथा  यूरिया की आधी मात्रा तथा बाकी  सभी खाद मध्य सितंबर से मध्य अक्टूबर तक डाल देनी चाहिए। यूरिया  एक माह बाद  फिर डालनी चाहिए। ¨तथा  फरवरी में  फिर छिड़काव करना चाहिए। सर्दियों में 10 दिन व गर्मियों में पांच-छह दिन के अंतर ¨सीचाई करते रहना चाहिए।

गुलाब की देख रेख:

मध्य सितंबर से मध्य अक्टूबर तक जमीन की सतह से  ऊपर से कटाई करें। सूखी व बीमार टहनियों को निकालते रहें।

Title: rose farming

मिली-जुली खबरें

Shanu Shetri
Shanu Shetri - Editor at hindirasayan.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *